Code : 1584 315 Hit

अरामको हमलों से सीख ले इस्राईल, डेमोना परमाणु रिएक्टर बन सकता है आसान टार्गेट।

सऊदी अरब और अमेरिका, ईरान और उसके सहयोगी दलों के आगे इतने बेबस हो गए कि वह आज तक यह पता नहीं कर सके कि हमले हुए किस स्थान से? इस के दो ही मतलब है या सऊदी अमेरिकी सिस्टम नकारा हैं या प्रतिरोधी दलों के मिसाइल और सैन्य साज़ो सामान राडार की पकड़ से बाहर हैं , जो भी हो यह हमले बहुत प्रभावी थे ।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार यमन जनांदोलन के जवाबी हमलों की भेंट चढ़े अरामको के आयल फील्ड की चर्चा थमने का नाम नहीं ले रही है
यमन जनांदोलन की बढ़ती सैन्य शक्ति ने अवैध राष्ट्र इस्राईल की नींदें उड़ा दी हैं  ।
हारेत्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार ज़ायोनी परमाणु वैज्ञानिक ओज़ी एविन ने कहा है  कि अवैध राष्ट्र को इन हमलों से सीख लेते हुए ईरान के मुक़ाबले में अपनी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सचेत हो जाना चाहिए ।
सऊदी अरब के पास उन्नत क़िस्म के राडार हैं जो हमले का आभास कर लेते हैं यहाँ तक कि अमेरिका को भी ऐसे हमलों का आभास नहीं था बल्कि सऊदी अरब और अमेरिका, ईरान और उसके सहयोगी दलों के आगे इतने बेबस हो गए कि वह आज तक यह पता नहीं कर सके कि हमले हुए किस स्थान से, इस के दो ही मतलब है या सऊदी अमेरिकी सिस्टम नकारा हैं या प्रतिरोधी दलों के मिसाइल और सैन्य साज़ो सामान राडार की पकड़ से बाहर हैं , जो भी हो यह हमले बहुत प्रभावी थे ।
ओज़ी एविन ने सुझाव देते हुए कि डेमोना रिएक्टर के सभी गैस टैंकरों और अन्य साज़ो सामान को ज़मीन के अंदर बने बंकरों और तहखानों में रखें होगा ताकि इन्हे संभावित हमलों की सीधी मार से बचाया जा सके बल्कि इस रिएक्टर को बंद कर देना चाहिए क्योंकि हमले की अवस्था में होने वाला नुकसान इस के फायदे से अधिक है ।








....................

1
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम