×
×
×

कर्बला और इमाम हुसैन हैं ईरान की शक्ति एवं संस्कृति का स्रोत : ज़रीफ़

तुमने आईएसआईएस के खिलाफ सबसे प्रभावी भूमिका निभाने वाले को बेदर्दी और दरिंदगी से मार डाला!  तुम डरपोक दरिंदे हो ! लेकिन ईरान को कभी भी घुटने टेकने पर विवश नहीं कर सके क्योंकि धर्म से ऊपर उठकर हर ईरानी इमाम हुसैन का आशिक़ है जिस चीज़ ने ईरान को इतना शक्तिशाली और गौरवशाली बनाया है वह इमाम हुसैन का इश्क़ है।

विलायत पोर्टल : ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने ईरान की इस्लामी क्रांति और सद्दाम की ओर से थोपे गए 8 वर्षीय युध्द के शहीदों की याद में आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सर से पाँव तक साम्राज्यवादी धड़े के अत्याधुनिक हथियारों से लैस सद्दाम के समाने जिस चीज़ ने हमे सर बलन्द और विजेता बनाया , जिस चीज़ ने हमे साम्राज्यवाद के आगे कभी  नतमस्तक नहीं होने दिया वह कर्बला और आशूरा संस्कृति है। सुन्नी-शिया, ईसाई-यहूदी एवं अन्य धर्मों के लोग धर्म से अलग ईरान के तमाम लोग इमाम हुसैन और कर्बला से इश्क़ करते हैं।
साम्राज्यवाद और क्षेत्रीय देशों ने सद्दाम को 75 अरब डॉलर दिए ताकि ईरान को घुटने पर लाया जा सके लेकिन दुश्मन अपने उद्देश्य में नाकाम रहा हमारी सेना के जवान इश्क़े इमाम हुसैन में डूबी जनता के बीच से आते है।
ज़रीफ़ ने अमेरिका और उसके सहयोगी धड़े को लताड़ते हुए कहा कि तुम में सभ्यता नाम की कोई चीज़ नहीं है , आज तुम हमे सभ्यता की दुहाई दे रहे हो जबकि तुम्हे सभ्यता छु कर भी नहीं गुज़री !
तुमने आईएसआईएस के खिलाफ सबसे प्रभावी भूमिका निभाने वाले को बेदर्दी और दरिंदगी से मार डाला!  तुम डरपोक दरिंदे हो ! लेकिन ईरान को कभी भी घुटने टेकने पर विवश नहीं कर सके क्योंकि धर्म से ऊपर उठकर हर ईरानी इमाम हुसैन का आशिक़ है जिस चीज़ ने ईरान को इतना शक्तिशाली और गौरवशाली बनाया है वह इमाम हुसैन का इश्क़ है।
..........


लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम