×
×
×

शिया समुदाय आले सऊद का सबसे आसान निशाना

सऊदी अरब दावा करता रहा है कि छोटे छोटे अपराध का कारण बंदी बनाए गए लोगों को मौत की सज़ा देना बंद कर चुका है लेकिन वह आले सऊद के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के कारण कम से कम 40 जवानों को मौत की सज़ा सुना चुका है

विलायत पोर्टल : आले सऊद नित नए बहाने से पूर्वी अरब के क़तीफ प्रांत के बहुसंख्यक शिया समुदाय को निशाना बनाए हुए है। सऊदी अरब के तेल संपदा से मालामाल क़तीफ का बहुसंख्य शिया समाज सऊदी अरब की आले सऊद तानाशाही के अत्याचार का निशाने पर है।
अमेरिका के समर्थन से  सऊदी अरब सभी अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनों और मानवाधिकारों का हनन जारी रखे हुए है।  हाल ही में सऊदी अरब ने 2015 में 17 वर्ष की उम्र में बंदी बनाए गए मुस्तफा आले दरवेश को बेदर्दी से शहीद किया है।
मानवाधिकार संस्थाओं के अनुसार 2011 में सऊदी तानाशाही के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले क़तीफ के दसियों जवानों को आले सऊद मौत की सजा देना चाहते हैं। रिपोर्ट के अनुसार सऊदी अरब दावा करता रहा है कि छोटे छोटे अपराध का कारण बंदी बनाए गए लोगों को मौत की सज़ा देना बंद कर चुका है लेकिन वह आले सऊद के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के कारण कम से कम 40 जवानों को मौत की सज़ा सुना चुका है और कभी भी सऊदी शासन  इन जवानों की मौत की सजा पर अमल कर सकता है।


..................

लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम