×
×
×

पूर्वी सीरिया की दलदल में धंसे अमेरिका के खिलाफ शुरू हुआ गुरिल्ला वॉर

कुछ दिन पहले ही सीरियन सेना ने तुर्की समर्थित आतंकी समूह के नियंत्रण वाली रिफायनरी को हमलों का निशाना बनाया था अब अल उम्र में अमेरिकी सेना के ठिकानों को अज्ञात लोगों ने निशाना बनाया और यह हमले ठीक उस समय शुरू हुए जब इराक में ऐनुल असद में अमेरिकी अड्डे को रॉकेट्स हमलों का निशाना बनाया गया ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार हाल ही में पूर्वी सीरिया में स्थित अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर अज्ञात लोगों के हमले ने इस बात को बल दे दिया है कि यहाँ अमेरिका के खिलाफ गुरिल्ला युद्ध शुरू हो चुका है ।
लगभग एक महीने पहले ही सीरियन राष्ट्रपति ने कहा था कि सीरिया के तेल कुंओं पर क़ब्ज़ा जमाने वाली शक्तिशाली देश अमेरिका से सीधा युद्ध नहीं लड़ सकते लेकिन बहुत संभव है कि अमेरिका को इस क्षेत्र से भगाने के लिए प्रतिरोधी दलों और गुरिल्ला युद्ध की तकनीक अपनाई जाए ।
कुछ दिन पहले ही सीरियन सेना ने तुर्की समर्थित आतंकी समूह के नियंत्रण वाली रिफायनरी को हमलों का निशाना बनाया था अब अल उम्र में अमेरिकी सेना के ठिकानों को अज्ञात लोगों ने निशाना बनाया और यह हमले ठीक उस समय शुरू हुए जब इराक में ऐनुल असद में अमेरिकी अड्डे को रॉकेट्स हमलों का निशाना बनाया गया ।
सीरिया में अमेरिका और उसके एजेंटों के खिलाफ एक गुरिल्ला वॉर शुरू हो चुका है जो इस देश की तेल संपदा को चोरी होने से रोकने की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम है ज्ञात रहे कि ज़ायोनी व्यापारियों ने ट्रम्प की नीतियों से आगे की बातों का खुलासा करते हुए कहा है कि उनका कुर्द संगठनों  के साथ समझौता हो चुका है अमेरिका की हरी झंडी मिलते ही 125 हज़ार बैरल तेल को बढ़ा कर 400 हज़ार बैरल प्रतिदिन सीरिया से स्मगल होगा और हमारा प्रयास है कि दमिश्क़ के पास इस तेल की क़ीमत न पहुंचे जो लगभग ३६ मिलियन डॉलर होते हैं।
वहीँ दमिश्क़ ने गुरिल्ला वॉर में पारंगत अपनी संस्थाओं और अधिकारीयों को इस मिशन पर लगा दिया है कि वह देश की संपदा को लूटने से बचने के लिए इस क्षेत्र के क़बीलों और प्रभाशाली लोगों को अपने साथ लेते हुए देश की संपदा को लूटने से बचाएं जिस पर तेज़ी से काम करते हुए दमिश्क़ के अधिकारियों ने पूर्वी सीरिया के बीस से अधिक क़बीलों के प्रभावी लोगों से बात की है ।

............

लाइक कीजिए
1
फॉलो अस
नवीनतम