Code : 1167 193 Hit

लखनऊः अमीरूल मोमेनीन इंटर-नेशनल कांफ़्रेंस का सफलतापूर्वक समापन, बड़ी संख्या में उल्मा व स्कॉलर्स हुए शामिल।

लखनऊ में अमीरूल मोमेनीन (अ.स.) इंटर नेशलन कान्फ़्रैंस इतवार 27 अप्रैल को राय उमा नाथ आडीटोरीयम कैसरबाग लखनऊ में ३/ चरणों में आयोजित हुई

विलायत पोर्टलः लखनऊ में अमीरूल मोमेनीन (अ.स.) इंटर नेशलन कान्फ़्रैंस इतवार 27 अप्रैल को राय उमा नाथ आडीटोरीयम कैसरबाग लखनऊ में ३/ चरणों में आयोजित हुई।
पहले इजलास का आग़ाज़ दिन में 3 बजे क़ारी मोहम्मद रशीद की तिलावत क़ुरआन-ए-मजीद से हुआ। सदारत राजा महमूदाबाद मोहम्मद अमीर मोहम्मद ख़ां ने की, इफ़्तिताही ख़िताब  मौलाना सय्यद अहमद रज़ा हुसैनी (कनाडा) ने किया आप कनाडा में एक तब्लीग़ी सैंटर के सरबराह हैं और बहुत से क़ौमी काम अंजाम दे रहे हैं। उन्होंने हज़रत अली (अ.स.) की ख़िलाफ़त बिला फ़सल को बेहतरीन दलायल के ज़रीया पेश किया। यूनिटी स्कूल के बच्चों ने अपने टीचर मौलाना सैय्यद अरशद हुसैन अर्शी की रहनुमाई में बेहतरीन  तरीक़े से पिले पेश किया: ग़रीब ईसाई ख़ानदान की बच्ची मरयम भूकी है उसे शिकवा है कि आज एलिया (हज़रत अली अ.स.) रात को खाना लेकर क्यों नहीं आए? मालूम हुआ कि उनके सर पर ज़रबत लगी है ये सुनकर वो तड़प जाती है रोती है बिलकती है फ़र्याद करती है। इस मंज़र ने हाज़िरीन को रोने पर मजबूर कर दिया। प्रोफ़ैसर अज़ीज़ हैदर बनारसी ने मनक़बत अमीरुल-मोमेनीन हज़रत अली (अ.स.) पेश की। पूर्व वज़ीर आरिफ़ मोहम्मद ख़ां ने मुस्लिम की हालत-ए-ज़ार पर अफ़सोस का इज़हार करते हुए उसे हज़रत अली अलैहिस-सलाम के तालीमात पर अमल करने की तलक़ीन की।
इस इजलास में दो अमीर ऊल मोमेनीन (अ.स.) अवार्ड भी दिए गए। तब्लीग़ी इदारा मदरसातुल वाएज़ीन लखनऊ के सौ साला ख़िदमात पर उसे ये अवार्ड मुतवल्ली मुंतज़िम राजा महमूदाबाद को मौलाना सैय्यद अहमद रज़ा हुसैनी ने पेश किया ,और सवा सौ साला ख़िदमात इस्लाह का मक़ाला मुरत्तिब करने वाले मौलाना डाक्टर रेहान हसन रिज़वी को अमीरुलमोमेनीन (अ.स.) अवार्ड राजा साहिब महमूदाबाद ने  पेश किया। राजा साहिब ने अपनी सदारती तक़रीर में हज़रत अली अलैहिस-सलाम कि अज़ीम इलमी शख़्सियत के हवाला से क़ौम को तालीम-ए-याफ़ता बनने और जहालत से दूर रहने का  पैग़ाम दिया।
अमीरुल-मोमनीन (अ.स.) कान्फ़्रैंस का दूसरा इजलास शाम 5 बजे हुआ ।आग़ाज़ क़ारी इलयास साहब के ज़रिए कलाम पाक की तिलावत से हुआ। इस इजलास की सदारत लंदन से तशरीफ़ लाए आयातुल्लाह अक़ील-अल-ग़रवी ने की। सूबे उत्तरप्रदेश के गवर्नर जनाब राम नाईक के इसी हफ़्ते ऑप्रेशन के बाद पेसमेकर लगा है फिर भी वो इस प्रोग्राम में आने के ख़ाहिशमंद थे। डाक्टरों ने जब उन्हें इजाज़त नहीं दी तो उन्होंने अपना पैग़ाम टेप कराकर अपने नुमाइंदे जनाब अंजुम नक़वी के ज़रीया भेजा। ये पैग़ाम हाज़िरीन को स्क्रीन पर दिखाया भी गया और अंजुम नक़वी ने तक़रीर भी की।
इफ़्तिताही तक़रीर  मौलाना एहतिशाम अब्बास ज़ैदी बानी प्रिंसिपल हौज़ा इलमिया ऐनुल हयात अकबरपूर ने फ़रमाई। और हज़रत अली अलैहिस-सलाम की बताए मार्ग पर चलते हुए उल्मा से हक़गोई का मुतालिबा किया। उनकी तक़रीर के बाद अमीरुल-मोमनीन अवार्ड पेश हुए। बुज़ुर्ग आलिम मौलाना डाक्टर कल्बे सादिक़ साहिब क़िब्ला को असरी तालीम के असरी सर सैय्यद के उनवान से दिया गया अवार्ड उनके दामाद नजमी ने आयतुल्लाह अक़ील-अल-ग़रवी से हासिल किया। प्रोफ़ैसर फ़ज़ल इमाम रिज़वी को बउनवान बुज़ुर्ग उस्ताज़-ओ-अदीब का अवार्ड उनके बेटे इमादा इमाम ने मौलाना एहतेशाम अब्बास ज़ैदी से हासिल किया, होनहार छात्र  के अनवान का अवार्ड मुर्तजा सर्वत तक़ी ने प्रोफ़ैसर इराक़ रज़ा ज़ैदी से हासिल किया। और मुख़लिस हिंदू ताज़ियादार 93 साला पण्डित शिव चरण त्रिपाठी को जनाब अंजुम नक़वी (नुमाइंदा-ए-गवर्नर उत्तरप्रदेश) ने अमीर अलमोमेनीन अवार्ड से नवाज़ा। प्रोफ़ैसर इराक़ रज़ा ज़ैदी ने नज़म पेश की। सदारती तक़रीर में आयतुल्लाह अक़ील-अल-ग़रवी ने ज़ालिमों के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद करते रहने पर-ज़ोर दिया उन्होंने अमीर ऊल मोमेनीन (अ.स.) कान्फ़्रैंस को सराहा और मुदीर इस्लाह की सताइश करते हुए फ़रमाया कि बरवक़्त उन्होंने चहारदह सद साला यादगार शहादत अमीर ऊल मोमेनीन (अ.स.) मनाने की अपील की थी और इस पर अमल भी किया ऐसे प्रोग्राम पूरे साल पूरी दुनिया में होना चाहीए। ये भी ऐलान किया कि रमज़ान के बाद नई दिल्ली और लंदन दोनों मुक़ामात पर अमीरुल मोमेनीन (अ.स.) कान्फ़्रैंस का मन्सूबा बना चुका हूँ।
आख़िरी इजलास शब में 8 बजे मौलाना साबिर अली इमरानी की तिलावत क़ुरआन-ए-मजीद से हुआ। सदारत नुमाइंदा मुक़ाम मुअज़्ज़म रहबरी आयतुल्लाह मह्दी महदवी पूर ने फ़रमाई। इस इजलास में अमीर ऊलमोमेनीन (अ.स.) अवार्ड आक़ाए मह्दी महदवीपूर के हाथो आक़ाए ज़ाबित ने प्रोफ़ैसर ख़ुसरो क़ासिम अलीगढ का अवार्ड  लिया, मौलाना शहवार हुसैन नक़वी को जवान लेखक के उनवान से अवार्ड दिया गया और एराज़ मेडीकल कॉलेज लखनऊ को मेडिकल ख़िदमात का मेयारी इदारा के अनवान से अमीर-ऊल-मोमनीन अवार्ड पेश हुआ।
इदारा-ए-इस्लाह लखनऊ ने चौदह सौ साला यादगार शहादत अमीर ऊलमोमेनीनअ0  के मौक़ा पर कुल चौदह अवार्ड पेश किए पाँच अवार्ड एक दिन पूव  मोहम्मद अली शाह(छोटा इमामबाड़ा) लखनऊ मे आयोजित प्रोग्राम में पेश किए गए बुज़ुर्ग सहाफ़ी व लेखक के अनवान से अल्लामा हसन अब्बास फ़ित्रत

रिपोर्टः महदी बाक़री

0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम