×
×
×

सऊदी अरब एल्कोहलिक पदार्थों के सेवन को देगा कानूनी मान्यता

इस्लाम के तमाम फिर्कों में एल्कोहलिक पदार्थों का पीना हराम बताया गया है और यह सेहत के लिए हानिकारक हैं। लेकिन सऊदी अरब इंपोर्टेड एल्कोहलिक पदार्थों  का प्रचार कर रहा है और कह रहा है कि ऐसे एल्कोहलिक पदार्थ मानव स्वभाव के लिए लाभदायक हैं और इनसे सेहत को भी कोई खतरा नहीं है।

विलायत पोर्टल : सऊदी अरब इस्लामी सिद्धांतों एवं इस्लामी कानूनों के खिलाफ जंग की शुरुआत कर चुका है। एक और जहां आले सऊद ने हज यात्रा को सीमित कर दिया है वहीं रियाज़ से लेकर सऊदी अरब के अन्य शहरों में बीयर बार. क्लब एवं जुआ केंद्र खुले हुए हैं।
अब सऊदी अरब के टेलीविजन एल्कोहलिक पदार्थों का खुलकर प्रचार कर रहे हैं। सऊदी अरब के एमबीसी एवं अल खलीजिया टीवी पर एल्कोहलिक पदार्थों के सेवन को लेकर चेतावनी तो दी जा रही है लेकिन यह चेतावनी तमाम एल्कोहलिक पदार्थों के बारे में नहीं है बल्कि यह चेतावनी सिर्फ उन एल्कोहलिक पदार्थों को लेकर है जिन्हें लोग खुद अपने हाथों से बनाते हैं।
इन एल्कोहलिक पदार्थों को हानिकारक बताते हुए सऊदी टीवी पर कहा जा रहा है कि ऐसे पेय पदार्थ सेहत के लिए हानिकारक हैं। जबकि इस्लाम के तमाम फिर्कों में एल्कोहलिक पदार्थों का पीना हराम बताया गया है और यह सेहत के लिए हानिकारक हैं। लेकिन सऊदी अरब इंपोर्टेड एल्कोहलिक पदार्थों  का प्रचार कर रहा है और कह रहा है कि ऐसे एल्कोहलिक पदार्थ मानव स्वभाव के लिए लाभदायक हैं और इनसे सेहत को भी कोई खतरा नहीं है।
सऊदी अरब अदालत ने भी हाल ही में दिशा निर्देश जारी करते हुए कहा है कि सऊदी अरब में नशीले पदार्थ का सेवन करने पर 4 बार तो माफ किया जा सकता है। सिर्फ पीने वाले को ही 4 बार माफ नहीं किया जाएगा बल्कि नशीले पदार्थों की स्मगलिंग करने वाला व्यक्ति भी अगर अपने व्यक्तिगत प्रयोग के लिए स्मगलिंग कर रहा हो और यह उसका पहला अवसर हो तो उसे माफ किया जा सकता है।
आले सऊद शासन के विरोधी साद अल फकीह कहते हैं कि मोहम्मद बिन सलमान की तमाम कोशिशें यह है कि वह इस्लाम के वास्तविक चेहरे को बिगाड़ दे। बिन सलमान के निकट सहयोगी कहते हैं कि बिन सलमान इस्लाम का दुश्मन है वह इस्लाम का शत्रु है और चाहता है कि अरब प्रायद्वीप से इस्लाम का नामोनिशान मिटा दे।

....................

लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम