×
×
×

शहीद क़ासिम सुलेमानी का पत्र, फिलिस्तीनी मुजाहिदों के नाम

शहीद क़ासिम सुलेमानी ने लिखा कि फिलिस्तीन की रक्षा बिल्कुल वैसा ही है जैसे इस्लाम की रक्षा कर रहे हों जो आपकी फ़रियाद सुने और उस पर ध्यान न दे वह मुस्लमान नहीं हो सकता.

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार अल मयादीन ने शहीद क़ासिम सुलेमानी का वह पत्र प्रकाशित किया है जिसे उन्होंने अपनी शहादत से कुछ दिन पहले ही फिलिस्तीन प्रतिरोधी दल हमास की अल क़स्साम ब्रिगेड के कमांडर मोहम्मद अल ज़ैफ़ के नाम लिखा था.
शहीद क़ासिम सुलेमानी ने फिलिस्तीनी कमांडर की प्रशंसा करते हुए करोड़ों मुसलमानों की आँखों के सामने ज़ालिमों की नाकाबंदी में घिरे फिलिस्तीनियों की बहादुरी को सलाम करते हुए कहा कि फिलिस्तीन निश्चित रहे हमारे खिलाफ कितने ही प्रतिबंध लग जाएँ हम पर कितना ही दबाव क्यों न बनाया जाए हम फिलिस्तीन को अकेला नहीं छोड़ेंगे.
शहीद क़ासिम सुलेमानी ने लिखा कि फिलिस्तीन के लिए संघर्ष करना हमारा गौरव है दुनिया की किसी भी चीज़ के बदले हम अपने इस फ़र्ज़ से ग़ाफ़िल नहीं होंगे, फिलिस्तीन के दोस्त हमारे दोस्त फिलिस्तीन के दुश्मन हमारे दुश्मन हैं यह हमारी निति थी और हमेशा रहेगी.
शहीद क़ासिम सुलेमानी ने लिखा कि फिलिस्तीन की रक्षा बिल्कुल वैसा ही है जैसे इस्लाम की रक्षा कर रहे हों जो आपकी फ़रियाद सुने और उस पर ध्यान न दे वह मुस्लमान नहीं हो सकता.
अल्लाह की मदद से कामयाबी की घड़ी बहुत क़रीब है इस्राईल की नाबूदी का बिगुल बज चुका है, उम्मीद है खुदा हमे आपके कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने और फिलिस्तीन के लिए शहीद होने की आरज़ू पूरी होने की तौफ़ीक़ अता फरमाए.
...........


लाइक कीजिए
1
फॉलो अस
नवीनतम