×
×
×

क़ुद्स और मस्जिदे अक़्सा को बचाने का एकमात्र रास्ता है प्रतिरोध : शैख़ ईसा क़ासिम

आज़ादी का एकमात्र रास्ता प्रतिरोध है आज प्रतिरोध के अलावा और प्रतिरोध के बाद हमारे पास कोई विकल्प नहीं है, निरंतर और लगातार प्रतिरोध, प्रतिरोध हो तो मैदान विजय हासिल करने के बाद ही छूटता है.

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसरा बहरैन के वरिष्ठ शिया धर्मगुरु आयतुल्लाह शैख़ ईसा क़ासिम ने कहा कि क़ुद्स और मस्जिदे अक़्सा को ज़ायोनी पंजो से छुड़ाने का एकमात्र रास्ता प्रतिरोध है .
क़ुद्स दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में उन्होंने दुनिया भर के मुसलमानो और प्रतिरोधी दलों को संबोधित करते हुए कहा कि क़ुद्स की आज़ादी का एकमात्र रास्ता प्रतिरोध है आज प्रतिरोध के अलावा और प्रतिरोध के बाद हमारे पास कोई विकल्प नहीं है, निरंतर और लगातार प्रतिरोध, प्रतिरोध हो तो मैदान विजय हासिल करने के बाद ही छूटता है.
आयतुल्लाह ईसा क़ासिम ने बुद्धिजीवियों और उलमा से अपील की कि प्रतिरोधी मोर्चों को और मज़बूत, अडिग दीन और अल्लाह की राह में और अधिक वफादार और मुख्लिस होने के साथ साथ अटल होना होगा .
इस्लामी जगत और मुस्लिम उम्मत को दीन और मस्जिदे अक़्सा की इज़्ज़त और पासबानी के लिए अपनी पूरी क्षमताओं से काम लेना होगा.

.........

लाइक कीजिए
1
फॉलो अस
नवीनतम
हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई के बया ...

इस्लामी एकता के परिणाम