×
×
×

इस्लाम विरोधी पोस्ट करना पड़ा महंगा, सऊदी की जाज़ान यूनिवर्सिटी ने नौकरी से निकाला

प्रोफ़ेसर नीरज बेदी सऊदी अरब की जाज़ान यूनिवर्सिटी में कम्यूनिटी मेडिसिन के प्रोफ़ेसर थे, इनकी सैलरी 35000 रियाल यानी इंडियन सात लाख रुपए प्रतिमाह थी. सऊदी में रहकर इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ ज़हर उगलने के कारण उन्हें यूनिवर्सिटी से बर्खास्त कर दिया गया है.

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार सोशल मीडिया पर मुस्लिम विरोधी तथा मुसलमानों के खिलाफ नफ़रत और इस्लामोफोबिया पोस्ट को लेकर यूएई के बाद अब सऊदी अरब की एक यूनिवर्सिटी ने ट्विटर पर नफरत फ़ैलाने के दोषी भारतीय प्रोफेसर नीरज बेदी को निकाल दिया है. इसकी जानकारी देते हुए खुद जाज़ान यूनिवर्सिटी ने अपने ट्विटर पर लिखा कि “विश्वविद्यालय के कुछ सदस्यों ने बताया कि वह आपत्तिजनक पोस्ट और इस्लामोफोबिक ट्वीट कर रहे हैं, इसलिए उनका पंजीकरण खत्म किया जाता है. जाज़ान विश्वविद्यालय इस बात की पुष्टि करता है कि यह लोगों मैं फूट डालने और अतिवादी विचारों मालिक हैं जो हमारे पॉलिसी को प्रभावित करते हैं और अच्छे नेतृत्व के निर्देशों का उल्लंघन करते हैं. ख्याल रहे कि प्रोफ़ेसर नीरज बेदी सऊदी अरब की जाज़ान यूनिवर्सिटी में कम्यूनिटी मेडिसिन के प्रोफ़ेसर थे, इनकी सैलरी 35000 रियाल यानी इंडियन सात लाख रुपए प्रतिमाह थी. सऊदी में रहकर इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ ज़हर उगलने के कारण उन्हें यूनिवर्सिटी से बर्खास्त कर दिया गया है. याद रहे कि  हालिया दिनों में दिनों सऊदी अरब, कुवैत और यूएई के कई हिस्सों में मुस्लिम विरोधी टिप्पणियों को लेकर कई हिन्दुत्ववादियों को नौकरी से निकाला जा चुका है और कई लोगों को उनकी आपत्तिजनक तथा इस्लाम विरोधी पोस्ट के लिए जेल भेजा जा चुका है.



.........

लाइक कीजिए
1
फॉलो अस
नवीनतम