Code : 1803 244 Hit

मुस्लिम बुद्धिजीवी और उलमा की मांग, संयुक्त अरब अमीरात का बहिष्कार करे मुस्लिम जगत

अल जज़ीरा की रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात द्वारा लीबिया और यमन में आम मुसलमानों के क़त्ले आम और दुनिया भर में मुस्लिमों के खिलाफ संयुक्त अरब अमीरात की साज़िशों और उसके धन के बल पर किए जा रहे कुकर्मों का उल्लेख करते हुए 87 सदस्यीय उलमा के इस दल ने संयुक्त अरब अमीरात के बहिष्कार की मांग की।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार उलमा के एक संगठन ने मुस्लिम देशों और मुस्लिम जगत के खिलाफ संयुक्त अरब अमीरात की विध्वंसक और नकारात्मक नीतियों का उल्लेख करते हुए दुनिया भर के मुसलमानों और मुस्लिम देशों से अपील की है कि वह संयुक्त अरब अमीरात का बहिष्कार करें ।
अल जज़ीरा की रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात द्वारा लीबिया और यमन में आम मुसलमानों के क़त्ले आम और दुनिया भर में मुस्लिमों के खिलाफ संयुक्त अरब अमीरात की साज़िशों और उसके धन के बल पर किए जा रहे कुकर्मों का उल्लेख करते हुए 87 सदस्यीय उलमा के इस दल ने संयुक्त अरब अमीरात के बहिष्कार की मांग की।
संयुक्त अरब अमीरात दुनिया भर के मुसलमानों के खिलाफ अपराध कर रहा है वह अपने धनबल का प्रयोग करता है तथा अपने मज़दूरों को मुसलमानों की जान से खेलने के लिए भेजता है यमन हो या लीबिया या मिस्र में मोहम्मद मुर्सी सरकार के खिलाफ बग़ावत, सब संयुक्त अरब अमीरात के अपराध हैं ।
ज़ुल्म और अत्याचार से रिहाई पाने के अरब जगत के सपनों को संयुक्त अरब अमीरात ने बर्बाद कर दिया है वह फिलिस्तीन के खिलाफ षड्यंत्र कर रहा है वहीँ कश्मीर और चीन के उइगर मुसलमानों के खिलाफ भी षड्यंत्र में शामिल है।
.........................


0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम