Code : 1715 285 Hit

इराक प्रदर्शन, अमेरिका के 701 मिलियन डूबने के बाद क्या गुल खिलाएंगे सऊदी अरब के 150 मिलियन डॉलर ?

इस योजना को ज़मीन पर उतारने और प्रभावी बनाने की ज़िम्मेदारी बग़दाद में अमेरिकी दूतावास से संबंधित इराक की सिविल सोसाइटी नामक संस्था पर है इस संस्था के अंतर्गत कई संस्थाएं हैं जिन्हे अमेरिका 2019 में ही अब तक 701 मिलियन डॉलर से अधिक की रक़म दे चुका है ।अपनी योजना पर नज़र रखने के लिए इराक में अमेरिका ने दो स्थानों का चयन किया है एक बग़दाद में अमेरिकी दूतावास दूसरा कुर्दिस्तान इराक का सुलेमानिया क्षेत्र।

विलायत पोर्टल :   प्राप्त जानकारी के अनुसार इराक के हालिया प्रदर्शन की आड़ में अपने राजनैतिक हित साधने के लिए बैचैन अमेरिका ने संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब के साथ मिलकर इराक में सामाजिक एवं क़ानूनी सुधार को लेकर हो रहे सरकार विरोधी प्रदर्शन को अपने हित में साधने के लिए एड़ी चोटी  का ज़ोर लगा दिया है ।
अल अखबार की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका ने इराक को लेकर नीतियां और रणनीति बनाने का काम संयुक्त अरब अमीरात को सौंपा है जहाँ इस काम को अमीरात के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ताहनून बिन ज़ायद आले नाह्यान और अवैध राष्ट्र इस्राईल से अपने संबंधों को लेकर कुख्यात उसके फिलिस्तीनी मूल के सहायक मोहम्मद दहलान ने अपने ज़िम्मे लिया हुआ है तथा इस योजना का सारा बजट जो अब तक 150 मिलियन डॉलर है सऊदी अरब के ज़िम्मे है।
वहीँ इस योजना को ज़मीन पर उतारने और प्रभावी बनाने की ज़िम्मेदारी बग़दाद में अमेरिकी दूतावास से संबंधित इराक की सिविल सोसाइटी नामक संस्था पर है इस संस्था के अंतर्गत कई संस्थाएं हैं जिन्हे अमेरिका 2019 में ही 701 मिलियन डॉलर से अधिक की रक़म दे चुका है ।
अपनी योजना पर नज़र रखने के लिए इराक में अमेरिका ने दो स्थानों का चयन किया है एक बग़दाद में अमेरिकी दूतावास दूसरा कुर्दिस्तान इराक का सुलेमानिया क्षेत्र।
अल अख़बार की इस रिपोर्ट को जो बात विश्वसनीय बनाती है वह इराक में सऊदी अरब के पूर्व राजदूत सामिर सुब्हान का वह बयान है जिस में उन्होंने इराकी अधिकारियों को कहा था कि इराक के लिए अक्टूबर अन्य महीनों से बहुत अलग होगा और एक बड़ी घटना इराक़ की राजनीति को बुरी तरह प्रभावित करेगी वहीं कुछ युवा संगठनों ने भी ऐलान किया था कि एक भूकंप सत्ताधारी सिस्टम को हिला कर रखा देगा ।
आदिल अब्दुल महदी को दण्डित करना चाहता है अमेरिका
इराकी प्रधानमंत्री आदिल अब्दुल महदी से खार खाया अमेरिका उन्हें दण्डित करना चाहता है तथा उन्हें सत्ता में बर्दाश्त करने के लिए तैयार नहीं है
जिस का पहला कारण है कि वह अपने पूर्ववर्ती हैदर एबादी के विपरीत ईरान के ख़िलाफ़ अमेरिकी प्रतिबंधों को बिल्कुल भी महत्त्व नहीं देते तथा इस मुद्दे पर सदैव ईरान के साथ खड़े रहे हैं
अब्दुल महदी से अमेरिका की नाराज़गी का दूसरा कारण सीरिया - इराक बॉर्डर को खोलते हुए अल बुकमाल-क़ायम बॉर्डर को खोलना है सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार बुकमाल - क़ायम बॉर्डर का खुलना अमेरिका के मुंह पर बहुत ज़ोरदार तमांचा है।
अमेरिका का इराक से चिढ़ने का तीसरा कारण इस देश की स्वंयसेवी सेना हश्दुश शअबी का शक्तिशाली होना और देश के महत्वपूर्ण विभागों में उसकी सशक्त उपस्थिति है जो अमेरिका को तनिक भी गवारा नहीं ।

.......................

0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम