×
×
×

इमाम ख़ुमैनी बदलाव और परिवर्तन के अगुआ थे, अमेरिका अपनी हरकतों के कारण पूरी दुनिया में ज़लील : आयतुल्लाह ख़ामेनई

आज अमेरिकी लोगों का नारा कि "मैं सांस नहीं ले पा रहा हूँ" सिर्फ अमेरिकी लोगों का नहीं बल्कि अमेरिकी सरकार के अत्याचार का सामना कर रही दुनिया भर की जा पीड़ित जनता की आवाज़ है।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान की इस्लामी क्रांति के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई ने इस्लामी गणतंत्र के संस्थापक इमाम ख़ुमैनी की बरसी के अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि इमाम ख़ुमैनी बदलाव और परिवर्तन के इमाम थे।
आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा कि इमाम की इसी परिवर्तनकारी सोच का नतीजा था कि जिस समय कोई अमेरिका के बारे में बोलने का सोच भी नहीं सकता था आपने एक अज़ीम बदलाव लाते हुए साम्राज्यवादी शक्तियों को अपमानित कर उनके मुक़ाबले डट जाने का हौसला दिया और दुनिया पर साबित किया कि यह देश नुकसान में हैं आज अमेरिका और तत्कालीन सोवियत संघ के विघटन में यह हक़ीक़त देखी भी जा सकती है।
उन्होंने अमेरिका के हालिया घटनाक्रम पर कहा कि यह कोई नई बात नहीं है बल्कि अमेरिक द्वारा अब तक छुपाई जाती रही घटनाओं का सार्वजनिक रूप से सामने आना भर है।
एक अश्वेत नागरिक के गले कोअन्य पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में एक पुलिसकर्मी द्वारा घुटने से उसकी मौत तक दबाये रहना यह ऐसी घटना है जो अमेरिकी सरकार के लिए कोई नई बात नहीं है वह अफ़ग़ानिस्तान, इराक , वियतनाम, सीरिया इराक जैसे देशों में ऐसी हरकतें करते रहे हैं।
आज अमेरिकी लोगों का नारा कि "मैं सांस नहीं ले पा रहा हूँ" सिर्फ अमेरिकी लोगों का नहीं बल्कि अमेरिकी सरकार के अत्याचार का सामना कर रही दुनिया भर की जा पीड़ित जनता की आवाज़ है।
अमेरिका अपनी हरकतों और अत्याचार के कारण दुनिया भर में ज़लील और रुस्वा हो गया है।
..........

लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम
हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई के बया ...

इस्लामी एकता के परिणाम