×
×
×

ईरान की दो टूक, मिसाइल कार्यक्रम पर नहीं तेहरान को हर्जाने की रक़म दिए जाने पर होगी वार्ता : ज़रीफ़

 हम ने अमेरिका के सात साथ राष्ट्रपतियों को देखा है , अमेरिका को सिर्फ पाबंदियां थोपने की आदत है ईरान अमेरिका के चक्करों में नहीं आएगा।

विलायत पोर्टल : ईरान के मिसाइल कार्यक्रम पर वार्ता और तेहरान के परमणु कार्यक्रम को रोकने के उद्देश्य से परमाणु समझौते में लौटने के अरमान संजोये अमेरिका को ईरान ने दो टूक शब्दों में कहा कि परमाणु समझौते में किसी अन्य विषय पर कोई बता नहीं होगी।
ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि अमेरिका अपनी गारंटी पेश करें वह बताएं कि उन्होंने इस समझौते को लेकर क्या विश्वसनीय काम किया है ? ट्रम्प के जाने से भी अमेरिका में कुछ बदलाव नमहि आया है बाइडन सिर्फ दावा कर रहे हैं।  हम ने अमेरिका के सात साथ राष्ट्रपतियों को देखा है , अमेरिका को सिर्फ पाबंदियां थोपने की आदत है ईरान अमेरिका के चक्करों में नहीं आएगा।
ज़रीफ़ ने यूरोप को लेकर कहा कि यूरोप की कंपनियां अपने देश की सरकार के बजाए अमेरिका की नीतियों पर चलती हैं उन्हें अमेरिकी सरकार के क़ानूनों का अधिक ध्यान है अपने देश की दिशा निर्देशों का कम , अगर अमेरिका इस समझौते में वापस आता भी है तो जिस बात पर वार्ता होगी वह ईरान को मिलने वाला हर्जाना है और कुछ नहीं। रूस और चीन हमारे दोस्त देश हैं दोनों देशों के 120 से अधिक लोग ट्रम्प शासनकाल से पाबंदियों का सामना कर रहे हैं ट्रम्प के प्रतिबंधों के कारण हमे 1 ट्रिलियन डॉलर से अधिक का नुकसान हुआ है। हमे हर्जाना चाहिए और अगर कोई वार्ता होती है तो पहला विषय यही होगा।
..................


लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम