×
×
×

तल अवीव और वारसा के बीच तनाव बढ़ा, इस्राईल ने अपना राजदूत वापस बुलाया

पोलैंड पार्लियामेंट ने पिछले साल भी कानून पास किया था कि जो कोई भी पोलैंड सरकार को नाज़ी जर्मनी के सहयोगी के रुप में प्रचारित करेगा उसे अदालती कार्रवाई का सामना करना होगा।

विलायत पोर्टल : पोलैंड पार्लियामेंट की ओर से होलोकास्ट के समय नाज़ी जर्मनी द्वारा ज़ब्त की गई संपत्ति को उनके वारिसों को वापस ना देने के संबंध में पारित किए गए कानून के बाद अवैध राष्ट्र इस्राईल और पोलैंड में तनाव गहरा गया है।
पोलैंड पार्लियामेंट ने हाल ही में एक कानून पारित करते हुए कहा था कि होलोकास्टके समय  नाजियों द्वारा ज़ब्त की गई संपत्ति को उनके पीड़ितों के वारिस अवैध रूप से अपने नियंत्रण में नहीं ले सकते।  इस कानून के पारित होने के बाद पोलैंड और इस्राईल में तनाव बढ़ गया है।  तल अवीव ने वारसा में मौजूद अपने राजदूत को वापस बुला लिया है।  दूसरे विश्वयुद्ध के समय जर्मनी द्वारा ज़ब्त की गई संपत्ति को पीड़ित परिवार को न देने संबंधी कानून के पारित होने के बाद इस्राईल और पोलैंड के संबंधों में तनाव गहरा गया है और इस्राईल ने पोलैंड से अपने राजदूत को वापस बुलाने का फैसला किया है।  इस्राईल  के अलावा इससे पहले अमेरिका भी पोलैंड से अपील कर चुका था कि वह इस कानून को पारित ना करें।  अवैध राष्ट्र ने दावा किया है कि पोलैंड की पार्लियामेंट में जो कानून पास किया है उनके अनुसार यहूदी अपनी संपत्ति को वापस नहीं पा सकेंगे और होलोकास्ट से बचने वाले लोग इस कानून के पारित होने के बाद भी नुकसान में रहेंगे।  पोलैंड पार्लियामेंट ने पिछले साल भी कानून पास किया था कि जो कोई भी पोलैंड सरकार को नाज़ी जर्मनी के सहयोगी के रुप में प्रचारित करेगा उसे अदालती कार्रवाई का सामना करना होगा।  पोलैंड पार्लियामेंट के प्रस्ताव को कानूनी रूप हासिल करने के लिए राष्ट्रपति से मंजूरी हासिल करनी होगी। इससे पहले टाइम्स ऑफ इस्राईल ने रिपोर्ट देते हुए कहा था कि पोलैंड पार्लियामेंट की ओर से होलोकास्ट से बचने वाले यहूदियों को अपनी संपत्ति हासिल करने से रोकने वाला कानून पारित करने पर अमेरिका और इस्राईल की कड़ी प्रतिक्रिया का सामना करना होगा।

................

लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम