×
×
×

मुहर्रम में अज़ादारी के बारे में आयतुल्लाह सीस्तानी के महत्वपूर्ण दिशा निर्देश

महान शिया मरजए तक़लीद आयतुल्लाह सीस्तानी ने लगभग दो सप्ताह में शुरू होने वाले मुहर्रम के महीने में आयोजित होने वाले शोक कार्यक्रमों के लिए आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए हैं

विलायत पोर्टलः इराक में पवित्र शहर नजफ़े अशरफ़ के कुछ लोगों ने ग्रैंड आयतुल्लाह सैय्यद अली सीस्तानी से कोरोना महामारी के दृष्टिगत अधिकारियों द्वारा बड़े समारोहों से बचने और साथ-साथ कुछ लोगों द्वारा पहले ही की तरह जुलूस एंव मजलिसें आयोजित करने के आग्रह पर सवाल किया कि कोरोना महामारी के दृष्टिगत इमाम हुसैन (अ.स.) के शोक कार्यक्रमों को हमेशा की तरह ही आयोजित किया जाना चाहिए या उसमें बदलाव की ज़रूरत है? जवाब में ग्रैंड आयतुल्लाह सीस्तानी ने कहा कि मुहर्रम के दर्दनाक और दिल दहला देने वाले दिनों में, शहीदों की शहादत पर दुख व्यक्त करने और मजलिस व मातम करने के विभिन्न तरीके हैं, जैसे:

टीवी चैनल्स और सोशल मीडिया द्वार जितना संभव हो मजलिसों का लाइव प्रसारण किया जाए। इस संबंध में उल्मा और समाज के प्रभावी लोगों को चाहिए कि मोमिनीन को अपने अपने घरों में रह कर टीवी और सोशल मीडिया द्वारा मजलिसें सुनने के लिए प्रोत्साहित करें। 

दिन या रात के निर्धारित समय पर घर में ही मजलिसे हों जिसमें केवल परिवार के सदस्य या उनके साथ रहने वाले लोग शामिल हों और शोक कार्यक्रमों को टीवी या इंटरनेट पर लाइव प्रसारित किया जाए। मजलिसों में मेडिकल प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन किया जाना चाहिए, मजलिस में उपस्थित लोगों के बीच सामाजिक दूरी का ध्यान रखा जाना चाहिए और साथ ही कोरोना को रोकने के लिए अन्य आवश्यक संसाधनों का उपयोग किया जाना चाहिए। ध्यान रखा जाना चाहिए कि मजलिस में शामिल होने वाले लोगों की संख्या अधिकारियों द्वारा तय की गई संख्या से ज़्यादा न हो, प्रोग्राम खुली जगहों में हों।

लाइक कीजिए
2
फॉलो अस
नवीनतम