Code : 1634 227 Hit

अतवान का बयान, ऑयल टैंकर पर हमला करने वालों को पहचानता है ईरान, लेगा कड़ा इंतेक़ाम ?

एक विचार यह भी ज़ाहिर किया जा रहा है कि यह हमले अमेरिका की करतूत हैं जिसने ओमान सागर में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और नार्वे के 6 तेल टैंकरों पर होने वाले हमले और ईरान द्वारा अपने अत्याधुनिक ड्रोन विमान ग्लोबल हॉक को मार गिराने का बदला लिया हो।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार सऊदी अरब के तटीय क्षेत्र के पास लाल सागर में मिसाइल हमलों का निशाना बने ईरान के तेल टैंकर साबिती पर हमला करने वाले पक्ष को ईरान शायद जानता है ।
इन विचारों को व्यक्त करते हुए अरब जगत के विख्यात विश्लेषक अब्दुल बारी अतवान ने कहा कि मैं नहीं समझता कि जब अमेरिका ने सऊदी में तीन हज़ार सैनिकों समेत थॉड और पैट्रियट मिसाइल सिस्टम तैनात करने के निर्णय लिया ईरान के ऑयल टैंकर के साथ होने वाली यह घटना एक हादसा हो ।
खाड़ी के इलाक़े और लाल सागर के क्षेत्र में टकराव और लड़ाई के हालात बन रहे हैं। सऊदी अरब के बक़ीक़ और ख़ुरैस तेल प्रतिष्ठानों पर मिसाइल और ड्रोन हमलों से होने वाले बड़े हमले ने इस इलाक़े में शक्ति संतुलन और सामरिक समीकरण बदल दिए हैं।
ईरान के साबिती  तेल टैंकर को सऊदी अरब के जेद्दाह शहर के निकट लाल सागर में दो मिसाइलों से निशाना बनाया गया यह अपने प्रकार का पहला हमला है क्योंकि हालिया महीनों में जितने भी तेल टैंकरों को निशाना बनाया गया उनमें एक भी ईरानी नहीं था।
इस तेल टैंकर की मालिक ईरान की ऑयल  कंपनी ने  इस बात का खंडन किया है कि यह हमले सऊदी अरब की धरती से किए गए होंगे। ईरानी कंपनी के सऊदी अरब को इस हमले का क़सूरवार न मानने ने इस बारे में कई सवाल खड़े कर दिए हैं कि यह हमला किसने किया है?
कुछ अटकलें हैं कि यह हमला इस्राईली पनडुब्बी से किया गया है  इस हमले के बाद टैंकर को अपना रास्ता बदलकर  खाड़ी लौटना पड़ा।
एक विचार यह भी ज़ाहिर किया जा रहा है कि यह हमले अमेरिका की करतूत हैं जिसने ओमान सागर में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात  और नार्वे के 6 तेल टैंकरों पर होने वाले हमले और ईरान द्वारा अपने अत्याधुनिक ड्रोन विमान ग्लोबल हॉक को मार गिराने का बदला लिया हो।
सऊदी अरब अरामको कंपनी के ऑयल फील्ड पर यमन जनांदोलन के हमले सऊदी अरब और अमेरिका के लिए ज़बरदस्त तमंचा और शर्मानक हार की भांति थी  अंसारुल्लाह के इस हमले से सऊदी अरब का सारा रौब और दबदबा रेत की दीवार की तरह ढह गया वहीँ इन हमलों ने अमेरिका के आधुनिक कहे जाने वाले राडार और मिसाइल डिफ़ेन्स सिस्टम की भी हवा निकाल दी थी ।
ईरान ने सऊदी अरब को इस हमले के मामले में निर्दोष बताकर यह संदेश दिया है कि वह इस समय जब एक ही दिन बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान तेहरान पहुंचने वाले हैं, सऊदी अरब के साथ तनाव नहीं बढ़ाना चाहता।  ईरान के इस रुख से यह भी ज़ाहिर हो गया है कि ईरान को मालूम है कि हमले में कौन लिप्त हो सकता है।
ईरान इस हमले का इंतेक़ाम ज़रूर लेगा, हालिया अनुभव से यह बात समझ में भी आती है।
ईरान के आईआरजीसी बल ने हाल ही में  ईरानी वायु सीमा का उल्लंघन करने वाले अमेरिकी  ड्रोन को मार गिराने में ज़रा भी देर नहीं की
वहीँ जिबराल्टर ब्रिटेन द्वारा  में ईरानी तेल टैंकर पकड़े जाने के बाद आयतुल्लाह ख़ामेनई के निर्देश पर अमल करते हुए तत्काल दो ब्रिटिश तेल टैंकर ज़ब्त कर लिए।




......................



0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम