×
×
×

अफगानिस्तान के बाद यमन से निकलने की फिक्र करे अमेरिका

 यमन के खिलाफ थोपी गयी जंग चाहे जितने समय तक भी चले लेकिन यमन की जनता किसी अतिक्रमण एवं गुलामी को स्वीकार नहीं करेगी।  यमन अतिक्रमणकारियों का कब्रिस्तान बनेगा ।

विलायत पोर्टल : यमन जनांदोलन अंसारुल्लाह के वरिष्ठ सदस्य और यमन क्रांति की सर्वोच्च समिति के प्रमुख मोहम्मद अली अल हौसी ने अफगानिस्तान से अमेरिका की सैन्य वापसी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अफगानिस्तान से अमेरिका के अंतिम सैनिक की वापसी के साथ ही मैं अमेरिका और उसके सऊदी सहयोगी से मांग करता हूं कि वह यमन से भी अपने अतिक्रमण को समेटे और यमन से वापसी की योजना बनाए। अमेरिका और सुआदि को चाहिए कि वह यमन की जनता को शांति एवं स्थिरता के साथ जीवन गुजारने दें  ताकि वह अमेरिकी अतिक्रमण से मुक्त होकर स्वतंत्र रूप से रह सके। उन्होंने कहा कि यमन के खिलाफ थोपी गयी जंग चाहे जितने समय तक भी चले लेकिन यमन की जनता किसी अतिक्रमण एवं गुलामी को स्वीकार नहीं करेगी।  यमन अतिक्रमणकारियों का कब्रिस्तान बनेगा ।
याद रहे कि काबुल एयरपोर्ट से अमेरिका की अंतिम कार्गो फ्लाइट के उड़ान भरते ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने घोषणा करते हुए कहा है कि अफगानिस्तान में अमेरिका की 20 साल की सैन्य उपस्थिति का युग समाप्त हो गया है। अफगानिस्तान से अमेरिका की सैन्य वापसी के फैसले को लेकर जो बाइडन को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।  काबुल के हामिद करज़ई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आतंकी हमले में 13 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने के बाद बाइडन की आलोचनाओं ने जोर पकड़ लिया है।  याद रहे कि बृहस्पतिवार की शाम को काबुल एयरपोर्ट पर हुए हमले में 300 से अधिक लोग मारे गए थे जिनमें 13 अमेरिकी सैनिक भी शामिल थे।
...........................

लाइक कीजिए
0
फॉलो अस
नवीनतम