Code : 1790 683 Hit

हसन नसरुल्लाह ईसाई होते तो पश्चिमी जगत उन्हें ईसा मसीह जैसा दर्जा देता : याह्या अबु ज़करया

अगर वह पश्चिमी जगत से संबंधित होते तो वह उन्हें ईसा मसीह जैसा दर्जा देते, वहीँ अगर सय्यद हसन नसरुल्लाह बुधिष्ट होते तो वह उन्हें पवित्रता का स्थान दे देते लेकिन वह अरब जगत के बीच हैं जिन्होंने उनके पूर्वज अली इब्ने अबी तालिब अ.स. को मार डाला और हुसैन इब्ने अली को क़त्ल कर डाला अरबों को इज़्ज़त गवारा नहीं बल्कि उन्हें अपमान और ज़िल्लत पसंद है।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार अल्जीरिया के प्रख्यात विद्वान एवं पत्रकार याह्या अबु ज़करया ने ने लेबनान के प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह के प्रमुख सय्यद हसन नसरुल्लाह का गुणगान करते हुए कहा कि अरब जगत इस महान हस्ती की क़द्र करता है ना ही उनके महत्त्व को पहचनता है ।
याह्या अबु ज़करया ने कहा कि मुझ से सय्यद हसन नसरुल्लाह के बारे में पूछा जाता है मेरा मानना है कि वह महान हस्ती हैं अगर वह यहूदियों और ज़ायोनियों के बीच होते तो वह उन्हें अपना लीडर मानते, अगर वह पश्चिमी जगत से संबंधित होते तो वह उन्हें ईसा मसीह जैसा दर्जा देते, वहीँ अगर सय्यद हसन नसरुल्लाह बुधिष्ट होते तो वह उन्हें पवित्रता का स्थान दे देते लेकिन वह अरब जगत के बीच हैं जिन्होंने उनके पूर्वज अली इब्ने अबी तालिब अ.स. को मार डाला और हुसैन इब्ने अली को क़त्ल कर डाला अरबों को  इज़्ज़त गवारा नहीं बल्कि उन्हें अपमान और ज़िल्लत पसंद है।
अवैध राष्ट्र और वहाबी आतंकी संगठन आईएसआईएस के विरुद्ध हिज़्बुल्लाह के संघर्ष का उल्लेख करते हुए याह्या अबु ज़करया ने कहा कि जिस समय लेबनान की राष्ट्रीय संपदा को लूटने वाले उनकी आलोचना कर रहे थे उस समय हसन नसरुल्लाह अग्रिम मोर्चे पर अपने जवानों के साथ बंकरों में देश की इज़्ज़त और सम्मान के लिए लड़ रहे थे।
.......................





1
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम