Code : 1208 129 Hit

भारत के लिए सऊदी तेल, कभी भी ईरानी तेल का विकल्प नहीं बन सकताः अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन संघ

नई दिल्ली स्थित अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन संघ ने एक बयान जारी करके कहा है कि इराक़ी और सऊदी अरब का तेल हमारी रिफ़ाइनरियों के लिए काफ़ी महंगा होगा, जबकि ईरानी तेल पर भारतीय रिफ़ाइनरियों को कम लागत ख़र्च करनी पड़ती है।

विलायत पोर्टलः नई दिल्ली स्थित अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन संघ के निदेशक का कहना है कि क्वालिटि और क़ीमत की दृष्टि से इराक़ और सऊदी अरब का तेल भारतीय रिफ़ाइनरियों में ईरान का विकल्प नहीं बन सकता।

रविवार को प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, नई दिल्ली स्थित अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन संघ ने एक बयान जारी करके कहा है कि इराक़ी और सऊदी अरब का तेल हमारी रिफ़ाइनरियों के लिए काफ़ी महंगा होगा, जबकि ईरानी तेल पर भारतीय रिफ़ाइनरियों को कम लागत ख़र्च करनी पड़ती है।

भारत में अधिकांश तेल रिफ़ाइनरियां सरकारी हैं, इसलिए सऊदी अरब और इराक़ी तेल को रिफ़ाइन करने पर जो अधिक लागत आएगी, उसका भारत केन्द्रीय सराकर पर पड़ेगा।

इस संघा का कहना है कि वाशिगंटन द्वारा ईरान और उसके पड़ोसी देशों के बीच दूरियां उत्पन्न करने की कोशिशों के बावजूद, नई दिल्ली ने ईरान को लेकर अपनी विदेश नीति में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है।

अमरीका ने 2 मई से ईरानी तेल आयात करने वाले 8 देशों को दी गई छूट बंद कर दी है, लेकिन इसके बावजूद, अभी भी कई देश ईरान से तेल आयात कर रहे हैं।

पारस टुडे


0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम