Code : 1507 88 Hit

बहरैन में अमरीका द्वारा प्रायोजित सम्मेलन ट्रम्प प्रशासन की शर्मनाक नाकामी का सबूत है

स्वशासित फ़िलिस्तीनी प्रशासन ने कहा है कि बहरैन में अमरीका द्वारा प्रायोजित हालिया सम्मेलन ट्रम्प प्रशासन की शर्मनाक नाकामी है। इस सम्मेलन का लक्ष्य इस्राईली-फ़िलिस्तीनी विवाद को हल करने के लिए "डील ऑफ़ द सेन्चरी" नामक समझौते के पक्ष में समर्थन जुटाना था।

विलायत पोर्टलः शनिवार को जारी बयान में स्वशासित फ़िलिस्तीनी प्रशासन के अध्यक्ष महमूद अब्बास के प्रवक्ता नबील अबू रूदीना ने कहा कि इस सम्मेलन की नाकामी से, जो फ़िलिस्तीनियों की ओर से बहिष्कार के बावजूद 25-26 जून को मनामा में आयोजित हुयी, वॉशिंग्टन को संदेश मिला होगा।

अबू रूदीना ने कहाः "हमारी जनता की दृढ़ता और राष्ट्रपति महमूद अब्बास की अध्यक्षता में वैध नेतृत्व से कि जिसने हमारे राष्ट्रीय उद्देश्य को निशाना बनाने वाले सभी संदिग्ध समझौतों को रद्द कर दिया, मनामा वर्कशॉप की आश्चर्यजनक नाकामी से श्रीमान ट्रम्प और उनके प्रशासन को स्पष्ट संदेश मिलना चाहिए कि धमकी, दबाव और आदेश देने की नीति अब प्रभावी नहीं रह गयी है।"

उन्होंने कहा कि ट्रम्प प्रशासन हर एक के ख़िलाफ़ धमकी और दंडित करने की नीति अपनाए हुए है। अबू रूदैना ने कहा कि इस्राईली-फ़िलिस्तीनी विवाद से संबंधित प्रस्ताव के पीछे अमरीकी टीम पूरी तरह इस्राईल की ओर झुकाव रखती है, इसलिए पक्षपाती रवैया रखने वाली टीम ऐसा हल नहीं पेश कर सकती जिससे स्थायी व न्यायपूर्ण शांति क़ायम हो सके।

स्वशासित फ़िलिस्तीनी प्रशासन के अधिकारी ने संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रस्ताव पर आधारित स्थायी शांति प्राप्त करने और पूर्वी अल्क़ुद्स की राजधानी वाले स्वतंत्र फ़िलिस्तीनी देश के गठन के साथ फ़िलिस्तीनियों के अधिकारों की रक्षा के लिए फ़िलिस्तीन के संकल्प पर बल दिया

बहरैन वर्कशॉप इस्राईली-फ़िलिस्तीनी विवाद से संबंधित ट्रम्प की पेशकश के आर्थिक आयाम पर केन्द्रित थी जिसे ट्रम्प "डील ऑफ़ द सेन्चरी" कहते हैं, लेकिन इससे पहले की यह प्रस्ताव सार्वजनिक होता सभी फ़िलिस्तीनी पक्षों ने इसे रद्द कर दिया।

पारस टुडे

1
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम