Code : 768 17 Hit

पड़ोसी की शिकायत

एक दिन एक आदमी पैग़म्बर स अ के पास आया और कहने लगा: या रसूलल्लाह स अ ! मेरा पड़ोसी मुझे बहुत परेशान करता है उसने मेरे चैन सुकून छीन लिया है मैं क्या करूं?पैग़म्बर स अ ने कहा:.....

एक दिन एक आदमी पैग़म्बर स अ के पास आया और कहने लगा: या रसूलल्लाह स अ ! मेरा पड़ोसी मुझे बहुत परेशान करता है उसने मेरे चैन सुकून छीन लिया है मैं क्या करूं?
पैग़म्बर स अ ने कहा: तुम सब्र करो और उसकी किसी बात का जवाब न दो बल्कि उसके साथ अच्छा व्यवहार रखो।
कुछ दिन के बाद वह आदमी फिर पैग़म्बर के पास आया और दोबारा अपने पड़ोसी की शिकायत की।
पैग़म्बर स अ ने फिर उससे कहा: तुम सब्र करो।
कुछ दिन के बाद वह आदमी तीसरी बार आया और कहा: या रसूलल्लाह स अ!  मैं आपके कहने पर सब्र कर रहा हूँ और साथ ही साथ उसके साथ अच्छा व्यवहार भी कर रहा हूँ लेकिन वो मुझे परेशान करने से बाज़ नहीं आ रहा है।
इस बार पैग़म्बर स अ ने फ़रमाया : जुमे के दिन अपने घर के सारे सामान को बाहर निकाल देना क्योंकि जब लोग वहां से गुज़रेंगे तो तुमसे पूछेंगे कि क्यों अपने घर के सामान को बाहर निकाल दिया है तो तुम उन सबसे अपने बुरे पडोसी की शिकायत  करना।
वह आदमी वापस घर पंहुचा पड़ोसी ये सोच रहा था कि आज भी पैग़म्बर स अ ने उसे सब्र करने को कहा होगा लेकिन वह नहीं जनता था कि आज पैग़म्बर स अ ने उसे ज़ुल्म के मुक़ाबिले में खड़े होने के लिए कहा है।
फिर उस आदमी ने अपना सामान बाहर निकालना शुरू किया सामान बाहर निकाल कर वो वही खड़ा हो गया।
जब वहां से कोई गुज़रता और सामान बाहर निकलने कि वजह पूछता तो वो सबसे अपने पडोसी के बुरे व्यवहार के बारे बें बताता।
जब पडोसी को इस बात का पता चला तो वो उस आदमी के पास आया और अपने किए की माफ़ी मांगी, उसके सामान को घर पहुंचाया और वादा किया कि आगे कभी भी उसको परेशान नहीं करेगा।
इस कहानी से यह नतीजा निकलता है कि अगर कोई हमसे बुरा व्यवहार रखे तो पहले हमें उससे अपने कैरेक्टर से सुधारने की कोशिश करनी चाहिए लेकिन अगर वह बाज़ न आए तो उसका मुकाबला करना चाहिए इसलिए कि ज़ुल्म व अत्याचार के विरूद्ध खामोश बैठना सही नहीं हैं।

0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम