Code : 1112 103 Hit

ट्रम्प का ईरान पर दबाव बनाने का सपना कभी साकार नहीं होगाः जवाद ज़रीफ़

ईरानी राष्ट्र पर जो प्रतिबंध लगाए गए हैं वे इतिहास में अभूतपूर्व हैं लेकिन ईश्वर की इच्छा से ईरानी राष्ट्र इस संबंध में उन्हें ऐसी पराजय देगा जो इतिहास में बेजोड़ होगी।

विलायत पोर्टलः  मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने अमरीका के फ़ॉक्स न्यूज़ टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि वाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोलटन, ज़ायोनी शासन, सऊदी अरब और संयुक्त अरब इमारात, इस्लामी गणतंत्र व्यवस्था को गिराने की कोशिश में हैं और बोलटन, बिनयामिन नेतनयाहू, बिन सलमान और बिन ज़ायद की "बी टीम" अमरीका को ईरान के साथ सैन्य टकराव की ओर बढ़ाना चाहती है। अमरीका ने परमाणु समझौते से निकलने के बाद ईरान पर दबाव डालने के लिए व्यापक प्रयास शुरू कर दिए हैं।

ज्ञात रहे कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने 8 मई वर्ष 2018 को परमाणु समझौते के अंतर्गत किए गए अमरीका केसभी वचनों को तोड़ते हुए एक पक्षीय रूप से इस समझौते से निकलने की घोषणा की थी। इसके साथ ही उन्होंने ईरान पर परमाणु प्रतिबंधों को लौटा दिया था। ज़ायोनी शासन, सऊदी अरब और संयुक्त अरब इमारात को छोड़ कर सभी नेअमरीका के इस क़दम की निंदा की है।

इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनेई ने कुछ समय पहले कहा था कि अमरीकी बहुत ख़ुश हो कर कह रहे हैं कि ईरानी राष्ट्र पर जो प्रतिबंध लगाए गए हैं वे इतिहास में अभूतपूर्व हैं लेकिन ईश्वर की इच्छा से ईरानी राष्ट्र इस संबंध में उन्हें ऐसी पराजय देगा जो इतिहास में बेजोड़ होगी। विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने भी हाल ही में कहा है कि ईरान के संबंध में ट्रम्प की नीतियां विफल हो चुकी हैं और ईरानी कभी भी अमरीकी दबाव के सामने घुटने नहीं टेकेंगे। 

पारस टुडे

1
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम