Code : 1406 107 Hit

ईरान, फ़ार्स खाड़ी के देशों से बातचीत को तैयार हैः मूसवी

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि इस्लामी गतणंत्र ईरान, द्विपक्षीय व क्षेत्रीय मामलों के बारे में फ़ार्स की खाड़ी के क्षेत्र के हर देश से वार्ता के लिए तैयार है।

विलायत पोर्टलः सैयद अब्बास मूसवी ने सोमवार को साप्ताहिक पत्रकार सम्मेलन में परमाणु समझौते के सदस्य देशों से वार्ता में फ़ार्स की खाड़ी के क्षेत्र के दशों की उपस्थिति के संबंध में संयुक्त अरब इमारात के विदेश मंत्री के प्रस्ताव के बारे में कहा कि क्षेत्रीय देशों की एक असेम्बली के गठन और अनाक्रमण संधि पर हस्ताक्षर का ईरानी विदेश मंत्री का प्रस्ताव फ़ार्स की खाड़ी के क्षेत्रीय देशों के बीच वार्ता का आरंभ बिंदु बन सकता है।

उन्होंने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के ईरान के विरोधी बयान के बारे में कहा कि परमाणु समझौते से ग़ैर क़ानूनी ढंग से निकलने के बाद ट्रम्प सरकार इस स्थिति में नहीं है कि वह ईरान के बारे में दायित्व निर्धारण करे और ईरानी जनता पर अधिकतम दबाव डाल कर व प्रतिबंध लगा कर वार्ता की भी मांग करे।

ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि अमरीकी राष्ट्रपति के दावे मानसिक युद्ध का भाग और जनमत को ध्यान हटाने के लिए हैं, कहा कि इस्लामी गणतंत्र ईरान ने जेसीपीओए की वार्ता के माध्यम से पश्चिमी देशों के मानसिक दबाव को विफल बना दिया और वे ईरान के साथ जिस पुनः वार्ता की बात कर रहे हैं वह, ऐसी वार्ता नहीं है जिसे ईरान स्वीकार कर ले।

सैयद अब्बास मूसवी ने यूरोप व ईरान के संबंधों की बहाली की प्रक्रिया के बारे में कहा कि यूरोपीय संघ से ईरान की अपेक्षा यह थी कि वह अपने वादों को पूरा करेगा जबकि उसने अपने वादों को या तो पूरा नहीं किया या पूरा नहीं करना चाहा और यह बहुत खेद की बात है। उन्होंने कहा कि बड़े खेद की बात है कि आजके सभ्य संसार में कोई देश एक क़ानून बनाए और और उसे अन्य देशों पर लागू करे तथा अन्य देशों को एक दूसरे के साथ स्वतंत्रता से व्यापार करने की अनुमति न दे।

पारस टुडे

0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम