Code : 1482 56 Hit

ग्लोबल हॅाक के साथ अमरीकी पी-8 विमान को भी ईरान निशाना बना सकता था परन्तु हमने ऐसा नहीं कियाः आईआरजीसी कमान्डर

आजकल ईरान की आईआरजीसी की एयर डिफेन्स इकाई द्वारा दक्षिणी ईरान के तट पर अमरीका के एक जासूसी ड्रोन विमान "ग्लोबल हॅाक" को मार गिराये जाने का मुद्दा मीडिया में छाया हुआ है। आईआरजीसी कमान्डर ने शुक्रवार को अमरीकी ड्रोन के मलबे का अनावरण करते हुए पत्रकारों को बताया कि गुरुवार को जिस समय अमरीकी ड्रोन को मार गिराया गया उसी समय अमरीका का पी-8 विमान उस जासूसी विमान के पास से उड़ रहा था जिस पर कम से कम 35 लोग सवार थे।

विलायत पोर्टलः इस्लामी गणतंत्र ईरान की राष्ट्रीय कार्टोग्राफ़िक सेन्टर के डायरेक्टर मसऊद शफ़ीई चाक़ी ने पिछली रात ईरान के टेलीवीजन चैनल 2 से बात करत हुए कहा कि अमरीकी ड्रोन विमान ने संयुक्त अरब इमारात में मौजूद एक अमरीकी छावनी से उड़ान भरी थी और देश की वायु सीमा का उल्लंघन किया था।

अमरीका के इस जासूसी विमान ने ईरान के हुरमुज़गान प्रान्त के "कूहे मुबारक" क्षेत्र में ईरान की सीमा का उल्लंघन किया था।  अमरीका का यह ग्लोबल हॉक "Global Hawk" ड्रोन विमान अत्याधुनिक है जो बहुत मंहगा है।  ईरान द्वारा अमरीका के अत्याधुनिक ड्रोन को मार गिराए जाने से संसार को यह संदेश चला गया कि इस्लामी गणतंत्र ईरान, अपने राष्ट्रीय हितों की रक्षा की पूरी क्षमता रखता है।

ईरान ने अमरीका के इस ड्रोन विमान को अपनी सेव्वुम ख़ुरदाद एयर डिफ़ेंस सिस्टम से निशाना बनाया था। ईरान की वायुसीमा के भीतर अमरीका के एक ड्रोन विमान को मार गिराए जाने के बाद गुरूवार को अमरीकी राष्ट्रपति अपने आक्रमक अंदाज़ से बिल्कुल अलग अंदाज़ में यह कहते दिखाई दिए कि शायद ईरान ने ग़लती की है।  मैं यह सोचता हूं कि कोई एक जनरल या अन्य व्यक्ति ग़लती कर बैठा और धोखे में अमरीकी ड्रोन को मार गिराया गया।

ट्रम्प का यह बयान ऐसी हालत में सामने आया है कि इससे पहले ईरान के इस्लामी क्रान्ति संरक्षक बल आईआरजीसी के कमान्डर ने कहा था कि अगर हम चाहते तो अमरीकी जासूसी ड्रोन के साथ उस अमरीकी विमान को भी मार गिराते जो इस जासूसी ड्रोन विमान के साथ उड़ रहा था, लेकिन हमने ऐसा नहीं किया।

उन्होंने शुक्रवार को अमरीकी ड्रोन के मलबे का अनावरण करते हुए पत्रकारों को बताया कि गुरुवार को जिस समय अमरीकी ड्रोन को मार गिराया गया उसी समय अमरीका का पी-8 विमान उस जासूसी विमान के पास से उड़ रहा था जिस पर कम से कम 35 लोग सवार थे। ईरान उसको भी गिरा सकता था लेकिन ऐसा नहीं किया।

पारस टुडे

0
शेयर कीजिए
फॉलो अस
नवीनतम