×
×
×

ख़ुद को कैसे बदलें?!

ज़िंदगी में इम्तेहान आपको मज़बूत बनाने के लिए आते हैं इसलिए उसका डट कर सामना कीजिए.... अपने आप को यक़ीन दिलाइए कि मेरा अल्लाह मेरा रब मुझसे इतनी मोहब् ...

क्योंकि यह मज़दूर हैं

सड़कों पर लाचार और बेसहारा वह भी बुख़ार में तपते खांसते और हांफते दो रोटियों के मोहताज भूखे प्यासे उन मज़दूरों को जो बड़ी बड़ी जगमगाती बिल्डिंगों अपने ...

हज़रत ज़हरा स.अ. का किरदार और घर गृहस्थी

हमारे लिए अगर हज़रत ज़हरा स.अ. की ज़िंदगी आइडियल है तो ज़िंदगी के हर पहलू में आइडियल होनी चाहिए ताकि उसके फ़ायदे समाज में देखे जा सकें, हज़रत ज़हरा स. ...

सीरिया की तेल संपदा चुरा रहा है अमेरिका, रहस्यों को छुपाने के लिए की गयी बग़ ...

व्हाइट हेलमेट का मुखिया कोसोवो और अफ़ग़ानिस्तान , इराक और लेबनान में तैनात एक सैन्य एजेंट था फिर सीरिया में आकर व्हाइट हेलमेट नाम का संगठन बनता है ऐसा आ ...

नेतन्याहू ने लगाई गुहार, हम पर नहीं ईरान पर प्रतिबंध लगाए यूरोप

मीडिल ईस्ट के कसाई के नाम से कुख्यात ज़ायोनी प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने अमेरिका की ज़ायोनी लॉबी को संबोधित करते हुए ग़ज़्ज़ा के हालिया घटनाक्रम का उल्लेख कर ...

अमेरिकी दूत को सय्यद अम्मार हकीम की दो टूक, इराक में बाहरी हस्तक्षेप स्वीका ...

अम्मार हकीम ने देश में शांतिपूर्ण प्रदर्शनों का समर्थन करते हुए कहा कि हम प्रदर्शनकारियों की आड़ में उपद्रव फैलाने वालों के खिलाफ कड़ाई से कार्रवाई करने ...

ईदे मिलादुन्नबी के अवसर पर आयतुल्लाह ख़ामेनई ने क़ैदियों की रिहाई पर मुहर लग ...

चीफ जस्टिस हुज्जतुल इस्लाम रईसी ने हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई को पत्र लिखते हुए विभिन्न अपराधों में जेल में बंद 3552 क़ैदियों की रिहाई एवं सजा में कटौती की ...

अवैध राष्ट्र इस्राईल ने जेहादे इस्लामी की शर्तों पर युद्ध विराम स्वीकारा

ज़ायोनी समाचार पत्र अल हदस ने लिखा है कि अवैध राष्ट्र इस्राईल ने जेहादे इस्लामी की शर्तों को स्वीकार करते हुए युद्ध विराम को स्वीकार कर लिया है।

शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो

शौहर इस बात को ध्यान में रखे कि बीवी जैसा कोई वफ़ादार दोस्त नहीं हो सकता, आप ख़ुद ग़ौर करें कि आप अपने दोस्त पर क्या वैसी धौंस जमा सकते हैं जैसी नौकर ...

बच्चे की पहली सज़ा

बच्चे की तरबियत में मार पिटाई का कोई भी असर नहीं होता है, बल्कि नकारात्मक प्रभाव होता है, जैसे मार पिटाई का आदी हो जाने के साथ साथ माँ बाप की महानता ...

बच्चों को डांटे नहीं!!

कुछ वालेदैन हमेशा बच्चों पर चिल्लाते हुए और डांटते हुए दिखाई देते हैं ऐसा लगता है जैसे बच्चे उनकी आवाज़ नहीं सुन पा रहे हैं, जब बच्चे शरारत करते हैं य ...

तरबियत ज़ुबान से नहीं अमल से होनी चाहिए....

बेटी अपनी मां को देखती है और उनसे ज़िंदगी के आदाब, शौहर से पेश आने के तरीक़े, घर गृहस्थी संभालना और बच्चों की परवरिश का तरीक़ा सीखती है और अपने बाप को ...

बच्चे की तरबियत में मां का किरदार

तरबियत इंसानी समाज में एक ऐसी ज़रूरत है जिसकी ज़रूरत को दुनिया की सारी क़ौमों में महसूस किया जा सकता है, यही वजह है कि हर क़ौम और सारे वालेदैन की कोशि ...

इमाम सज्जाद अ.स. और पारिवारिक अख़लाक़ी पहलू

औरत का हक़ जिसकी सरपरस्ती एक मर्द कर रहा है यह है कि मर्द उसके वुजूद की ज़रूरत को समझे, और उसको इस बात का एहसास होना चाहिए कि अल्लाह ने आराम, सुकून और ...

इस्लाम में रिश्तों की अहमियत

हमारे समाज में दिन प्रतिदिन रिश्तों की अहमियत कम होती जा रही है, जबकि रिश्तों की मज़बूती समाज को काफ़ी प्रभावित करती है और ख़ुद इंसान और समाज को और आग ...

फॉलो अस
नवीनतम