Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 95736
Date of publication : 27/2/2016 16:37
Hit : 104

ईरान में चुनाव ख़त्म हुए, मतगणना शुरू।

स्लामी रिपब्लिक ईरान में दसवें संसदीय और पांचवे विशेषज्ञ एसेंबली के चुनाव के लिए मतदान संपन्न हो गया और शुक्रवार को ही मतगणना भी शुरू हो गई है।

विलायत पोर्टलः इस्लामी रिपब्लिक ईरान में दसवें संसदीय और पांचवे विशेषज्ञ एसेंबली के चुनाव के लिए मतदान संपन्न हो गया और शुक्रवार को ही मतगणना भी शुरू हो गई है। ईरान में दसवें संसदीय और पांचवे विशेषज्ञ एसेंबली के चुनाव के लिए मतदान शुक्रवार सुबह 8 बजे शुरू हुआ था और लोगों की भारी भीड़ की वजह से 4 बार मतदान का समय बढ़ाया गया। मिली सूचनाओं के अनुसार मतदान में ईरानी मतदाताओं ने भारी संख्या में भाग लिया। दसवें संसदीय चुनाव में 290 सांसद और विशेष एसेंबली के 88 सदस्य चुने जाएंगे। चुनाव आयोग के वरिष्ठ अधिकारी सियामक रहपेक ने बताया है कि शुक्रवार रात 9 बजे तक मिली ख़बरों के अनुसार कुल दो करोड़ अस्सी लाख मतदाताओं ने मतदान किया। इस बार चुनाव में पांच करोड़ उन्तालिस लाख सत्ताइस हज़ार पंद्रह ईरानी, मतदान का अधिकार रखते थे।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़ सऊदी अरब की सैन्य टुकड़ियां हैं आईएसआईएस और नुस्राह फ्रंट । ज़ायोनी सेना की गतिविधियां तेज़, लेबनान सेना ने अलर्ट । अय्याश सऊदी युवराज और मोहमद बिन ज़ायद पॉप गायिका मैडोना की राह पर, ली क़बालाह की शरण ईरान फ़ातेह और सहंद के बाद विशालकाय पनडुब्बी बनाने के लिए तैयार। इमाम हसन असकरी अ.स. के बाद सामने आने वाले फ़िर्क़े कुर्दों को अर्दोग़ान की धमकी, बंकरों को कुर्द लड़ाकों का मज़ार बन दूंगा । नोबेल विजेता की मांग, यमन युद्ध का हर्जाना दें सऊदी अरब और अमीरात । फ़िलिस्तीन का संकट लेबनान का संकट है , क़ुद्स का यहूदीकरण नहीं होने देंगे : मिशेल औन महत्त्वहीन हो चुका है खाड़ी सहयोग परिषद, पुनर्गठन एकमात्र उपाय : क़तर एयरपोर्ट के बदले एयरपोर्ट, दमिश्क़ पर हमला हुआ तो तल अवीव की ख़ैर नहीं ! तुर्की को SDF की कड़ी चेतावनी, कुर्द बलों को निशाना बनाया तो पलटवार के लिए रहे तैयार ।