Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 95183
Date of publication : 16/2/2016 16:16
Hit : 121

आईएसआईएल ने फिर 1000 बेगुनाह लोगों मौत के घाट उतारा।

आईएसआईएल ने मूसिल में बंदी बनाए गए एक हज़ार लोगों के परिजनों को सूचित किया है कि वे अब अपने बंदी रिश्तेदारों का इंतेज़ार न करें।


विलायत पोर्टलः आतंकवादी गुट आईएसआईएल ने इराक़ के मूसिल नगर में 1000 अन्य लोगों की हत्याएं की हैं। आईएसआईएल ने मूसिल में बंदी बनाए गए एक हज़ार लोगों के परिजनों को सूचित किया है कि वे अब अपने बंदी रिश्तेदारों का इंतेज़ार न करें। आईएसआईएल ने इन बंदियों के परिजनों को सूचित करते हुए कहा है कि तुम लोग अपने रिश्तेदारों का अब इंतेज़ार न करो हमने उनकी हत्या कर दी है। आईएसआईएल ने इन एक हज़ार लोगों की हत्या करने के बाद उनके शवों को मूसिल के दक्षिण और पूर्व में सामूहिक़ क़ब्रों में भर दिया। इसस पहले सन 2015 के अप्रैल महीने में भी आईएसआईएल ने मूसिल के 2100 लोगों की हत्याएं की थीं। उल्लेखनीय है कि आतंकवादी गुट आईएसआईएल ने कुछ पश्चिमी और अरब देशों के सहयोग से लगभग दो वर्ष पूर्व इराक़ के कुछ इलाक़ों का अग़वा कर लिया था जहां पर इस आतंकवादी गुट ने जघन्य अपराध किए हैं।
..............
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....