Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 94925
Date of publication : 13/2/2016 17:14
Hit : 239

इराक़ी सेना ने मूसिल आज़ाद कराने की कार्यवाही शुरू कर दी।

विलायत पोर्टलः सैकड़ों इराक़ी सैनिक मूसिल के दक्षिण पूर्व में स्थित एक सैनिक छावनी में पहुंच गए हैं। यह तैनातियां मूसिल शहर को आईएसआईएल के क़ब्ज़े से आज़ाद करवाने के लिए की जा रही हैं।


विलायत पोर्टलः सैकड़ों इराक़ी सैनिक मूसिल के दक्षिण पूर्व में स्थित एक सैनिक छावनी में पहुंच गए हैं। यह तैनातियां मूसिल शहर को आईएसआईएल के क़ब्ज़े से आज़ाद करवाने के लिए की जा रही हैं। इराक़ी अधिकारियों ने बताया है कि सैनिकों को मख़मूर शहर की छावनी में तैनात किया गया है जो मूसिल से 70 किलोमीटर दूर स्थित है। इराक़ी सेना की डिविजन-15 की निगरानी में सैनिकों की तैनाती की जा रही है। साढ़े चार हज़ार सैनिक तैनात किए जाएंगे जबकि सुन्नी क़बीलों के स्वंयसेवियों की भी मदद ली जाएगी। ब्रिगेडियर जनरल यहया रसूल ने कहा कि जैसे ही हम अपनी तैयारियां पूरी कर लेंगे, मूसिल आप्रेशन की शुरुआत का ऐलान कर देंगे। ज्ञात रहे कि मूसिल पर जून 2014 से आईएसआईएल का क़ब्ज़ा है। नैनवा प्रांत, जिसका केन्द्रीय शहर मूसिल है, धीरे-धीरे आतंकी संगठन आईएसआईएल के क़ब्ज़े से आज़ाद होता हा रहा है।
..............
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....