Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 94575
Date of publication : 7/2/2016 19:35
Hit : 288

आयतुल्लाह निम्र की शहादत, वहाबियत की मौत का संदेश हैः मौलाना कल्बे जवाद

सऊदी अरब के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू शहीद आयतुल्लाह शेख़ बाक़िर निम्र के चालीसवें के कार्यक्रम में हज़ारों लोगों ने भाग लिया। लखनऊ में होने वाले इस कार्यक्रम में सऊदी अरब के ख़िलाफ़ ग़ुस्से और आक्रोश को ज़ाहिर किया गया।

विलायत पोर्टलः सऊदी अरब के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू शहीद आयतुल्लाह शेख़ बाक़िर निम्र के चालीसवें के कार्यक्रम में हज़ारों लोगों ने भाग लिया। लखनऊ में होने वाले इस कार्यक्रम में सऊदी अरब के ख़िलाफ़ ग़ुस्से और आक्रोश को ज़ाहिर किया गया। भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के ऐतिहासिक आसफ़ी इमामबाड़े मं सऊदी अरब के वरिष्ठ धर्मगुरू शहीद शेख़ बाक़िर निम्र की शहादत के चालीस दिन पूरे होने पर एक शोक सभा का आयोजन किया गया। आसफ़ी इमामबाड़े में, जिसे बड़े इमामबाड़े के नाम से जाना जाता है, रविवार को हज़ारों लोगों ने शहीद बाक़िर निम्र के चालीसवें के कार्यक्रम में शामिल होकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। आयतुल्लाह शहीद बाक़िर निम्र की शोक सभा में हज़ारो की संख्या में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए भारत में शिया मुसलमानों के वरिष्ठ धर्मगुरू और इमामे जुमा लखनऊ मौलाना सय्यद कल्बे जवाद ने कहा कि शेख़ बाक़िर निम्र की शहादत दुनिया भर में फैल रही वहाबियत के लिए मौत का संदेश है। मौलाना कल्बे जवाद ने अपने संबोधन में कहा कि लखनऊ के शहीद प्रेमी लोगों ने उस शहीद के लिए शोक सभा का आयोजन किया है जिसको बड़ी निर्दयता के साथ वर्तमानकाल के यज़ीद आले सऊद ने सिर्फ़ इसलिए मौत के घाट उतार दिया क्योंकि उन्होंने आले सऊद के अत्याचारों को सहन नहीं किया और देश की अत्याचारग्रस्त नागरिकों के अधिकारों की मांग की थी। उन्होंने कहा कि शहीद निम्र ने आले सऊद के अत्याचारों और उसके भ्रष्टाचारों को दुनिया के सामने लाने का साहस किया था, जिसके नतीजे में उनको सऊदी अरब की अत्याचारी सरकार ने मौत के घाट उतार दिया। इमामे जुमा लखनऊ ने कहा कि इतिहास इस बात का साक्षी है कि जब भी किसी ने अत्याचारी सरकार या ज़ालिम व्यक्ति के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई है तब-तब अत्याचारियों ने सच्चाई को दबाने की नाकामयाब कोशिश की है। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में वहाबियत इंसानित के लिए नासूर बन गई है। सऊदी अरब के शासक, वहाबियत के मुख्य प्रचारक हैं, जिनके हाथ मुसलमानों के ख़ून से रंगे हुए हैं। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि आज हम बहरैन, यमन, सीरिया, और नाइजेरिया या इराक़ में जहां कहीं भी देखें तो हर तरफ़ सऊदी अरब केवल मुसलमानों का ही ख़ून बहा रहा है। उन्होंने कहा कि आज जिस तरह से वहाबी विचारधारा के लोग एक विशेष समुदाय को निशाना बना रहे हैं उनको यह बात जान लेनी चाहिए कि इमाम हुसैन (अ.स.) के मानने वाले अत्याचारों का डटकर मुक़ाबला करते हैं और अत्याचारियों को ही जड़ से उखाड़ फेंकते हैं। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि शहीद बाक़िर निम्र ने करबला वालों की तरह अपमान की ज़िन्दगी पर सम्मान की मौत को प्राथमिकता दी।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई