Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 94574
Date of publication : 7/2/2016 19:16
Hit : 163

ईरान की ताक़त, इस्लामी रिवाल्यूशन का नतीजा हैः ज़रीफ़

विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा है कि ईरान के प्रतिरोध में समझबूझ और सहयोग, दुशमनों के विुरुद्ध युद्ध तथा दूसरे देशों के साथ बातचीत जैसी हर तरह की शक्ति पाई जाती है।

विलायत पोर्टलः विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा है कि ईरान के प्रतिरोध में समझबूझ और सहयोग, दुशमनों के विुरुद्ध युद्ध तथा दूसरे देशों के साथ बातचीत जैसी हर तरह की शक्ति पाई जाती है। उन्होंनें तेहरान में एक कार्यक्रम में स्पीच देते हुए इस्लामी रिवाल्यूशन की कामयाबी की वर्षगांठ पर बधाई दी। जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि ईरान की समस्त प्रतिष्ठा और सम्मान तथा राष्ट्रीय शक्ति, इस्लामी रिवाल्यूशन की मूल विचारधारा और सभ्यता, तथा इमाम ख़ुमैनी की महान याद यानी स्वाधीनता और आत्मविश्वास की संस्कृति का नतीजा है। उन्होंने कहा कि सबको यह बात अपने मन में बैठा लेनी चाहिए कि प्राचीन इतिहास के स्वामी इस्लामी रिपब्लिक ईरान के अंदर अंतर्राष्ट्रीय इलाक़ों में प्रभावी ढंग से उपस्थित रहने की क्षमता पाई जाती है। विदेशमंत्री जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी के इस ऐतिहासिक जुमले(वाक्य) का आधार कि अमरीका हमारा कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता, यह है कि अमरीका ही सब कुछ नहीं है। विदेशमंत्री ने कहा कि इस्लामी रिपब्लिक ईरान की शक्ति, इस्लामी रिवाल्यूशन और इसके के वैश्विक पैग़ाम की वजह से हासिल हुई है।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई