Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 93978
Date of publication : 30/1/2016 19:41
Hit : 176

रुमादी व सलाहुद्दीन से आतंकी हुए भागने पर मजबूर।

इराक़ के अलअंबार व सलाहुद्दीन प्रांतों में आतंकियों के ठिकानों पर सेना के हमलों में दर्जनों आतंकी मारे गए हैं।


विलायत पोर्टलः इराक़ के अलअंबार व सलाहुद्दीन प्रांतों में आतंकियों के ठिकानों पर सेना के हमलों में दर्जनों आतंकी मारे गए हैं। इराक़ी सेना ने अलअंबार प्रांत के केंद्रीय नगर रुमादी में घरों में घात लगा कर छिपे हुए आईएसआईएल के आतंकियों पर अचानक हमला कर दिया। इस हमले के नतीजे में दर्जनों आतंकी मारे गए। इराक़ की सेना ने स्वयंसेवी बलों की मदद से अलअंबार प्रांत में आईएसआईएल के कंट्रोल वाले इलाकों को आज़ाद कराने के लिए व्यापक अभियान चला रखा है। इस अभियान में वायु सेना और कब़ायली बल भी सेना का साथ दे रहे हैं। इस समय इराक़ी सेना अलअंबार में आईएसआईएल के सबसे महत्वपूर्ण ठिकाने फ़ल्लूजा को आज़ाद कराने की कोशिश कर रही है। इराक़ में स्वयंसेवी बलों ने भी सलाहुद्दीन प्रांत के जबाल मकहूल क्षेत्र में आतंकी गुट आईएसआईएल के ठिकानों पर हमला किया जिसमें तीन आतंकी मारे गए। आईएसआईएल ने पिछले साल से इराक़ के कई उत्तरी व पश्चिमी शहरों का अतिग्रहण करके लगातार घोर अपराध कर रहा है।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....