Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 93845
Date of publication : 28/1/2016 20:9
Hit : 173

ईरान ने सूपर पावर की इज़्ज़त मिट्टी में मिला दीः इस्राईल

ज़ायोनी शासन के एक वरिष्ठ पत्रकार ने कहा है कि ईरान ने अमरीका के नौसेनिकों को पकड़कर वास्तव में अमरीका को बुरी तरह से अपमानित किया है।


विलायत पोर्टलः ज़ायोनी शासन के एक वरिष्ठ पत्रकार ने कहा है कि ईरान ने अमरीका के नौसेनिकों को पकड़कर वास्तव में अमरीका को बुरी तरह से अपमानित किया है। इस्राईल के चैनेल-10 के एक पत्रकार ने कहा है कि पेंटागन के वरिष्ठ अधिकारी इस चित्र को देखकर बहुत क्रोधित हुए थे कि अमरीकी नौसिक एक पोत पर उल्टे लेटे हैं और उनके के हाथ पीछे की ओर हैं। इस इस्राईली पत्रकार का कहना है कि यह अमरीका के लिए बहुत ही शर्म की बात है। गेल तेमारी ने कहा कि ईरान ने इस घटना में अमरीकी सैनिकों को अपमानित करने की विशेष शैली का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि इन सैनिकों को गिरफ़्तार करके ईरान ने जो वीडियो जारी किया इससे उसने अमरीका को यह संदेश देना चाहा कि वाशिंगटन ख़ुद को जितना शक्तिशाली समझता है वास्तव में वह उतना शक्तिशाली नहीं है। उन्होंने कहा कि ईरान की यह कार्यवाही, क्षेत्र में अमरीका के घटक देशों के लिए भी एक महत्वपूर्ण संदेश है। एक अन्य इस्राईली विशलेषक येहज़ केलनी ने कहा कि ऐसी स्थिति में अमरीकी नौसैनिकों को पकड़ना जब हाल ही में परमाणु समझौता हुआ था और ईरान से प्रतिबंध हटाने का ऐलान भी किया गया था, बहुत हिम्मत का काम था। ज्ञात रहे कि हालिया दिनों में ईरान ने अमरीका के उन सैनिकों को अपनी जल सीमा में गिरफ़्तार कर लिया था जो ईरान की जलसीमा का उल्लंघन करते हुए अंदर घुस आए थे जिन्हें बाद में माफ़ी मांगने के बाद छोड़ दिया गया।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती