हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
چهارشنبه - 2019 مارس 20
हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
Languages
Delicious facebook RSS ارسال به دوستان نسخه چاپی  ذخیره خروجی XML خروجی متنی خروجی PDF
کد خبر : 81101
تاریخ انتشار : 20/8/2015 17:33
تعداد بازدید : 94

रूस के सामने ईरान पर लगे प्रतिबंधों का कोई महत्व नहीं

रूस ने कहा है कि एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली ईरान को दिये जाने के संबंध में वह तेहरान के विरुद्ध लगे प्रतिबंधों को कोई महत्व नहीं देता है।


विलायत पोर्टलः रूस ने कहा है कि एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली ईरान को दिये जाने के संबंध में वह तेहरान के विरुद्ध लगे प्रतिबंधों को कोई महत्व नहीं देता है। प्राप्त समाचारों के अनुसार रूस के विदेशमंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने ईरान को एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली दिये जाने के संबंध में वाशिंग्टन की चिंताओं की प्रतिक्रिया में कहा कि मास्को इस रक्षाप्रणाली को ईरान को देने के संबंध में केवल अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों पर ध्यान देगा और यह निर्णय संयुक्त राष्ट्रसंघ के क़ानून की योजना में है। लावरोफ़ ने ज़ोर देकर कहा कि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध से रूस चिंतित नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि सुरक्षा परिषद के समस्त प्रतिबंध एकपक्षीय रूप से और अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के विरुद्ध लगाये गए हैं इसलिए रूस के लिए उनका कोई महत्व नहीं है। मंगलवार को अमेरिकी विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने उन ख़बरों के प्रति चिंता जताई थी जिसमें रूस के एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली को ईरान को दिये जाने की बात कही गई थी। वर्ष २००७ में ईरान और रूस के मध्य एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली के समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे लेकिन रूस विभिन्न बहानों से यह रक्षाप्रणाली ईरान को देने में टाल-मटोल से काम ले रहा था। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन ने एक आदेश जारी करके ईरान को एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली को देने पर लगी रोक को समाप्त कर दिया और रूसी अधिकारियों ने भी एलान किया है कि जारी वर्ष के अंत तक यह रक्षाप्रणाली ईरान के हवाले कर दी जायेगी।
 ................
तेहरान रेडियो


نظر شما



نمایش غیر عمومی
تصویر امنیتی :