Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 81101
Date of publication : 20/8/2015 17:33
Hit : 382

रूस के सामने ईरान पर लगे प्रतिबंधों का कोई महत्व नहीं

रूस ने कहा है कि एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली ईरान को दिये जाने के संबंध में वह तेहरान के विरुद्ध लगे प्रतिबंधों को कोई महत्व नहीं देता है।


विलायत पोर्टलः रूस ने कहा है कि एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली ईरान को दिये जाने के संबंध में वह तेहरान के विरुद्ध लगे प्रतिबंधों को कोई महत्व नहीं देता है। प्राप्त समाचारों के अनुसार रूस के विदेशमंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने ईरान को एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली दिये जाने के संबंध में वाशिंग्टन की चिंताओं की प्रतिक्रिया में कहा कि मास्को इस रक्षाप्रणाली को ईरान को देने के संबंध में केवल अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों पर ध्यान देगा और यह निर्णय संयुक्त राष्ट्रसंघ के क़ानून की योजना में है। लावरोफ़ ने ज़ोर देकर कहा कि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध से रूस चिंतित नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि सुरक्षा परिषद के समस्त प्रतिबंध एकपक्षीय रूप से और अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के विरुद्ध लगाये गए हैं इसलिए रूस के लिए उनका कोई महत्व नहीं है। मंगलवार को अमेरिकी विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने उन ख़बरों के प्रति चिंता जताई थी जिसमें रूस के एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली को ईरान को दिये जाने की बात कही गई थी। वर्ष २००७ में ईरान और रूस के मध्य एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षाप्रणाली के समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे लेकिन रूस विभिन्न बहानों से यह रक्षाप्रणाली ईरान को देने में टाल-मटोल से काम ले रहा था। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन ने एक आदेश जारी करके ईरान को एस ३०० प्रक्षेपास्त्रिक रक्षा प्रणाली को देने पर लगी रोक को समाप्त कर दिया और रूसी अधिकारियों ने भी एलान किया है कि जारी वर्ष के अंत तक यह रक्षाप्रणाली ईरान के हवाले कर दी जायेगी।
 ................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी