Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 79093
Date of publication : 21/7/2015 18:9
Hit : 372

परमाणु मामले पर अमरीका व इस्राईल आमने-सामने

ज़ायोनी शासन के युद्ध मंत्री ने कहा है कि ईरान के साथ होने वाले समझौते और इसके परिणामों पर चिंता के बारे में अमरीका व इस्राईल में मतभेद है।


विलायत पोर्टलः ज़ायोनी शासन के युद्ध मंत्री ने कहा है कि ईरान के साथ होने वाले समझौते और इसके परिणामों पर चिंता के बारे में अमरीका व इस्राईल में मतभेद है। मूशे यअलून ने सोमवार को अमरीका के रक्षामंत्री एश्टन कार्टर के साथ एक संयुक्त पत्रकार सम्मेलन में कहा कि इस्राईल के लिए अमरीका से बड़ा कोई भी मित्र नहीं है जो इस्राईल की रणनैतिक आधारों को सुनिश्चित बनाता हो। उन्होंने कहा कि अमरीका व इस्राईल के संयुक्त हित व मान्यताएं हैं और उन्हें इन मान्यताओं को स्थापित करने के लिए अपना साझा संघर्ष जारी रखना चहिए। मूशे यअलून ने ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के बारे में अमरीका व इस्राईल के बीच गहरे मतभेद की बात स्वीकार करते हुए कहा कि इसके बावजूद तेल अवीव एवं वाशिंग्टन ने अन्य महत्वपूर्ण समस्याओं के साथ ही इस मामले पर पूरी तरह से खुले वातावरण में बात की। ज्ञात रहे कि वियाना में हुए समग्र परमाणु समझौते की पुष्टि में संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में एक प्रस्ताव पारित होने से ज़ायोनी शासन के अधिकारी बहुत क्रोधित हैं। ज़ायोनी प्रधानमंत्री बेनयामिन नेतनयाहू ने दावा किया है कि सुरक्षा परिषद का यह क़दम, उस सरकार को सफ़लता प्रदान करेगा जो सदैव अंतर्राष्ट्रीय प्रस्तावों का उल्लंघन करती है और इस्राईल को नष्ट करने की धमकी देती है।
 ................
 तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार ।