Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 79071
Date of publication : 21/7/2015 12:38
Hit : 330

परमाणु समझौते के मसौदे के पारित होने पर ईरान की प्रतिक्रिया

ईरान ने संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में समग्र ज्वाइंट एक्शन प्लान की पुष्टि में प्रस्ताव नम्बर 2231 के पारित होने के बाद एक बयान में कहा है कि शांतिपूर्ण परमाणु तकनीक सहित विज्ञान व तकनीक मानवता की संयुक्त धरोहर है।


विलायत पोर्टलः ईरान ने संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में समग्र ज्वाइंट एक्शन प्लान की पुष्टि में प्रस्ताव नम्बर 2231 के पारित होने के बाद एक बयान में कहा है कि शांतिपूर्ण परमाणु तकनीक सहित विज्ञान व तकनीक मानवता की संयुक्त धरोहर है। ईरानी विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि इस्लामी गणतंत्र ईरान अपने सशक्त वैचारिक, रणनैतिक व अंतर्राष्ट्रीय आधारों के अनुसार सामूहिक विनाश के शस्त्रों विशेष कर परमाणु हथियारों को पूर्ण रूप से अमानवीय और विश्व शांति व सुरक्षा के लिए हानिकारक हथियार मानते हुए उन्हें रद्द करता है। इस बयान में कहा गया है कि ईरान परमाणु शस्त्रों को संपूर्ण रूप से नष्ट किए जाने को एक अंतर्राष्ट्रीय आवश्यकता मानता है और एनपीटी के आधार पर एक कर्तव्य के रूप में इस पर बल देता है। बयान में इसी प्रकार कहा गया है कि इस्लामी गणतंत्र ईरान मानवता को परमाणु शस्त्रों तथा उनके प्रसार के ख़तरे से मुक्ति दिलाने के लिए परमाणु शस्त्र रहित क्षेत्र बनाने जैसे सभी अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनी एवं कूटनैतिक प्रयासों में सक्रिय ढंग से भाग लेने का प्रस्ताव रखता है। ज्ञात रहे कि संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद ने सोमवार को अपनी बैठक में वियाना में हुई सहमति के अंतर्गत समग्र ज्वाइंट एक्शन प्लान की पुष्टि करते हुए एक प्रस्ताव पारित कर दिया। यह सहमति चौदह जूलाई को ईरान व गुट पांच धन एक के बीच हुई थी। सुरक्षा परिषद का यह प्रस्ताव परमाणु समझौते के क्रियान्वयन के मार्ग में पहला क़दम है।
 ................
 तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....