Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 79060
Date of publication : 21/7/2015 12:21
Hit : 394

जॉन केरी

ईरान के विरुद्ध वोट से अमेरिका की छवी होगी ख़राब जॉन केरी

अमरीका के विदेश मंत्री ने कहा है कि यदि कांग्रेस ने परमाणु समझौते को रद्द किया तो इसके परिणाम ख़तरनाक होंगे।


विलायत पोर्टलः अमरीका के विदेश मंत्री ने कहा है कि यदि कांग्रेस ने परमाणु समझौते को रद्द किया तो इसके परिणाम ख़तरनाक होंगे। जॉन केरी ने सोमवार को एनपीआर रेडियो वेबसाइट से बात करते हुए ईरान व गुट पांच धन एक के बीच होने वाले परमाणु समझौते का स्वागत किया और कहा कि यदि अमरीकी कांग्रेस इस समग्र समझौते को पारित नहीं करती है तो इसके बहुत ही ख़तरनाक परिणाम सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में अमरीका की पूरी साख ख़राब हो जाएगी। जॉन केरी ने कहा कि अगर अमरीका, ईरान के विरुद्ध विकल्प प्रयोग करने का फ़ैसला करता है तो वह सफल नहीं होगा क्योंकि कभी भी संयुक्त राष्ट्र संघ और अमरीका के घटक यूरोपीय देश इस क़दम का समर्थन नहीं करेंगे। अमरीकी विदेश मंत्री ने कहा कि अगर अमरीकी कांग्रेस ने परमाणु समझौते को रद्द कर दिया तो फिर ईरान, वार्ता की विफलता को, यूरेनियम के संवर्धन का बहाना बनाएगा या संवर्धन को अपना अधिकार बताते हुए जिसने उसे वार्ता के कारण अलग रख दिया था, फिर से संवर्धन का काम आरंभ कर देगा।
................
 तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार ।