Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 76834
Date of publication : 10/6/2015 19:10
Hit : 382

ईरान का सबसे बुड़ा दुश्मन अमेरिका।

इस्लामी क्रांति संरक्षक बल सिपाहे पासदारान के कमान्डर ने कहा है कि अमरीकी विश्व शांति और प्रगति के बारे में बड़ी सुन्दर बातें करते हैं किन्तु वे हमारे सबसे बुरे शत्रु हैं।


विलायत पोर्टलः इस्लामी क्रांति संरक्षक बल सिपाहे पासदारान के कमान्डर ने कहा है कि अमरीकी विश्व शांति और प्रगति के बारे में बड़ी सुन्दर बातें करते हैं किन्तु वे हमारे सबसे बुरे शत्रु हैं। ब्रिगेडियर जनरल हुसैन सलामी ने बुधवार को कहा कि तकनीक से संपन्न विश्व की प्रगतिशील व्यवस्थाएं, अनैतिक फ़िल्मों, विषयों और आदर्शों को स्थानांतरित करके विश्व की नैतिक व्यवस्थाओं को धराशायी करने की चेष्टा में हैं और इस तरह से दुनिया में अशांति फैला रही हैं। उनका कहना था कि जब विश्व शक्तियां सीमा से ज़्यादा सैन्य विस्तार की कोशिश करती हैं और राजनैतिक डर पैदा करके ईश्वरीय मूल्यों को एक किनारे लगा देती हैं तो इससे सत्ता का पतन होता है और यही अमरीका का तर्क है। ब्रिगेडियर जनरल हुसैन सलामी ने मीज़ाइल और प्रतिरक्षा के इलाक़े में ईरान की क्षमताओं के बारे में कहा कि मीज़ाइलों की सूक्ष्मता के संबंध में वरिष्ठ नेता ने जो बिन्दु बयान किए हैं, वे इससे पहले के तकनीकी हों, राजनैतिक व आस्था संबंधी हैं क्योंकि दुश्मनों के निकट मनुष्यों के जनसंहार का कोई महत्त्व नहीं है और इसमें सूक्ष्मता की कोई आवश्यकता नहीं होती। उन्होंने कहा कि सुप्रीम लीडर का कहना है कि इस्लामी व्यवस्था में परमाणु शस्त्रों की कोई जगह नहीं है।
.............
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....