Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75301
Date of publication : 26/5/2015 17:56
Hit : 372

यमन पहुंचा भुखमरी के मुहाने पर

अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार यमन में मानवीय सहायता पहुंचने में रुकाट और ईंधन की कम जारी रहने के चलते इस देश को गंभीर रूप से एक भारी सकंट का सामना करना पड़ सकता है।



विलायत पोर्टलः यमन के अधिकांश क्षेत्रों में खाद्य सामग्री समाप्त होने के बाद यह देश भुखमरी जैसी बड़े सकंट के बहुत पास पहुंच गया है। 
अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार यमन में मानवीय सहायता पहुंचने में रुकाट और ईंधन की कम जारी रहने के चलते इस देश को गंभीर रूप से एक भारी सकंट का सामना करना पड़ सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यमन की जनता एक ओर परिवेष्टन में है और दूसरी ओर उस पर निरंतर हवाई हमले हो रहे हैं। इस देश की मानवीय स्थिति लगातार जटिल होती जा रही है और इस देश में मानवीय त्रासदी उत्पन्न होने की चिंताएं गंभीर होती जा रही हैं।
यमन में मानवीय त्रासदी के ज़रूरतमंद लोगों की संख्या एक करोड़ बीस लाख से अधिक पहुंच चुकी है। अलमयादीन टीवी चैनल के रिपोर्टर ने बताया है कि यमन में युद्ध विराम का आग्रह स्वीकार न किए जाने के कारण राहत कमेटियां बहुत ग़ुस्से में हैं क्योंकि वे राहत व बचाव कार्य नहीं कर पा रही हैं। यमन के दक्षिती प्रांतों में विशेष रूप से खाद्य सामग्री समाप्त होती जा रही है और गेहूं के मूल्य इतने बढ़ गए हैं कि लोगों की ख़रीद क्षमता से बाहर हैं।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई