Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75300
Date of publication : 26/5/2015 17:38
Hit : 396

परमाणु बातचीत में किसी भी तरह की धौंस सहन नही करेगा ईरान

ईरान की राष्ट्रीय सुरक्षा की उच्च परिषद के सचिव अली शमख़ानी ने कहा है कि तेहरान परमाणु बात-चीत के संबंध में किसी भी प्रकार की ज़ोर-ज़बरदस्ती को बर्दाश्त नहीं करेगा।


विलायत पोर्टलः ईरान की राष्ट्रीय सुरक्षा की उच्च परिषद के सचिव अली शमख़ानी ने कहा है कि तेहरान परमाणु बात-चीत के संबंध में किसी भी प्रकार की ज़ोर-ज़बरदस्ती को बर्दाश्त नहीं करेगा।
अली शमख़ानी ने सोमवार को तेहरान यूनीवरसिटी में भाषण देते हुए कहा कि ईरान अपनी रेड लाइनों की रक्षा के साथ परमाणु वार्ता जारी रखने का समर्थन करता है और दूसरे पक्षों की किसी भी तरह की धौंस और धमकी को रद्द करता है। उन्होंने कहा कि परमाणु ऊर्जा की अंतर्राष्ट्रीय संस्था आईएईए के साथ ईरान का सहयोग सामान्य ढंग से और केवल परमाणु मामले के संबंध में होगा। शमख़ानी ने ये भी स्पष्ट किया कि अंतर्राष्ट्रीय नियमों से हट कर कोई भी बात मानी नहीं जाएगी और पूरक प्रोटोकोल की परिधि से बाहर किसी भी प्रकार के निरीक्षण को स्वीकार नहीं किया जाएगा।
ईरान की राष्ट्रीय सुरक्षा की उच्च परिषद के सचिव ने क्षेत्र में तकफ़ीरी आतंकी गुटों की उपस्थिति की ओर संकेत करते हुए कहा कि आतंकी गुटों और क्षेत्र के अतिक्रमणकारियों के अंत सद्दाम जैसा होगा जिस तरह हमने सद्दाम व उसके समर्थकों को लज्जाजनक ढंग से ख़ुर्रमशहर से खदेड़ा था, जिस्से वे न केवल आज इराक़ में नहीं हैं बल्कि इस संसार से ही मिट चुके हैं। उसी तरह जल्द ही हम तकफ़ीरीयों का नामों निशान भी इस दुनिया से मिटा डालेंगे। अली शमख़ानी ने इसी प्रकार यमन के संकट को संयुक्त राष्ट्र संघ, पड़ोसी देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के लिए एक कड़ी परीक्षा बताया और कहा कि इतिहास अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और उन देशों के बारे में, जो अपनी ख़ामोशी से या ज़ालिम हुकीमत का साथ दे कर एक आज़ाद देश के निर्दोष लोगों के क़त्ल और मूलभूत ढांचे की तबाही का कारण बने हैं, बहुत कड़ुवा फ़ैसला करेगा।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....