Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75226
Date of publication : 25/5/2015 17:58
Hit : 371

ईरान ही ले सकता है ISIL से टक्करः क़ासिम सुलैमानी

इस्लामी क्रान्ति संरक्षक बल सिपाहे पासदारान की क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर नेइराक़ में तकफ़ीरी आतंकवादी गुट आईएसआईएल की मौजूदगी और क्षेत्रीय मामलों की ओर इशारा करते हुए कहा कि आज इस ख़तरे से सिर्फ़ और सिर्फ़ ईरान निपट सकता है।


विलायत पोर्टलः र्इस्लामी क्रान्ति संरक्षक बल सिपाहे पासदारान की क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर ने कहा है कि ईरान के अलावा आईएसआईएल से किसी में निपटने की क्षमता नहीं है।
जनरल क़ासिम सुलैमानी ने कहा कि आज सभी इस बात को मान रहे हैं कि इस्लामी गणतंत्र ईरान, उन सभी युद्धों में विजयी प्राप्त की जो दुश्मनों ने ईरान पर थोपी थीं। जनरल क़ासिम सुलैमानी ने स्पष्ट किया कि ईरान 36 साल तक विश्व साम्राज्य के दबाव में रहा है फिर भी आख़िर में सभी मैदानों में वह जीत मिली। उन्होंने इराक़ में तकफ़ीरी आतंकवादी गुट आईएसआईएल की मौजूदगी और क्षेत्रीय मामलों की ओर इशारा करते हुए कहा कि आज इस ख़तरे से सिर्फ़ और सिर्फ़ ईरान निपट सकता है।
क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर क़ासिम सुलैमानी ने बल दिया, “हमें इराक़ के तेल और भूमि या इराक़ के साथ साथ किसी दूसरे देश की किसी भी चीज़ की ज़रूरत नहीं है। हम उन सभी देशों की मदद करते हैं जिन पर ज़ुल्म हुआ है।” उन्होंने अभी हाल में इराक़ के रुमादी शहर पर तकफ़ीरी आतंकवादियों के क़ब्ज़े पर अमरीका की कठोर निंदा की। उन्होंने कहा कि ऐनुल असद हवाई छावनी जिस पर अमरीकी झंडा लगा हुआ है, रुमादी से बहुत निकट है लेकिन अमरीकी सैनिकों ने इस शहर पर क़ब्ज़े के लिए आईएसआईएल की लड़ाई को रोकने के लिए कोई क़दम नहीं उठाया। उन्होंने रविवार को ईरान के ख़िलाफ़ इराक़ द्वारा थोपे गए आठ वर्षीय युद्ध में भाग लेने वालों के समारोह को ख़िताब करते हुए कहा, “यह षड्यंत्र में साथ देने के अर्थ में है।”
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....