Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75165
Date of publication : 24/5/2015 20:5
Hit : 274

लारीजानी

अमरीकियों से ज़्यादा तथाकथित मुसलमानों से संघर्ष ज़रूरीः लारीजानी

डा. अली लारीजानी ने कहा कि इस समय क्षेत्र में हमे ऐसे हिंसक लोगों का सामना है जो अपने भाइयों का ही ख़ून बहा रहे हैं। मुसलमान भाइयों का ख़ून बहा रहे हैं।



विलायत पोर्टलः ईरान के संसद सभापति ने कहा कि परमाणु मामले के समाधान के लिए कूटनीतिक क्षमताओं के प्रयोग जारी रहना चाहिए।
डा. अली लारीजानी ने कहा कि हमारी नीति क्षेत्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय विषयों एवं परमाणु मामले के समाधान में कूटनीति का प्रयोग करना है। 
रविवार को सदन में बोलते हुए संसद सभापति ने कहा कि देश की मौजूगा तीन प्रमुख समस्याएं अर्थव्यस्था, परमाणु मामला और क्षेत्र में घटने वाली घटनाएं हैं।  अली लारीजानी ने कहा कि इस समय क्षेत्र में हमे ऐसे हिंसक लोगों का सामना है जो अपने भाइयों का ही ख़ून बहा रहे हैं।  उन्होंने यह भी कहा कि यदि हम सीरिया और यमन में घटने वाली घटनाओं की समीक्षा करें तो पता चलेगा कि अब स्थिति ऐसी हो चुकी है कि हमें अमरीकियों के बजाए उन तथाकथित मुसलमानों से संघर्ष करना होगा जो अपने ही मुसलमान भाइयों का ख़ून बहा रहे हैं।
संसद सभापति ने इस बात पर बल देते हुए कहा कि वर्तमान हालात को देखते हुए कहना पड़ता है कि स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी ने हमें जो रास्ता दिखाया था वह वास्तव में हमारे लिए बहुत बड़ा सरमाया है।
अली लारीजानी ने इस्लामी क्रांति की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए यह भी कहा कि ख़ुर्रम शहर की स्वतंत्रता, उन चोटियों में से एक थी जिन्हें ईरानी राष्ट्र ने जीता।  उन्होंने कहा कि इसका एक रहस्य, बलिदानी लोगों का साथ था।
................
तेहरान रेडियो 


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई