Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75102
Date of publication : 23/5/2015 23:50
Hit : 297

तकफ़ीरियों के साथ धर्म व सम्मान की लड़ाई अपने आख़िरी चरण मेः नसरुल्लाह

हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव ने हसन नसरुल्लाह ने कहा है कि तकफ़ीरी आतकवादियों के साथ लड़ाई अत्यंत महत्वपूर्ण और निर्णायक है और शीघ्र ही आम लामबंदी की घोषणा की जाएगी।


विलायत पोर्टलः हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव ने हसन नसरुल्लाह ने कहा है कि तकफ़ीरी आतकवादियों के साथ लड़ाई अत्यंत महत्वपूर्ण और निर्णायक है और शीघ्र ही आम लामबंदी की घोषणा की जाएगी।
सैयद हसन नसरुल्लाह ने शुक्रवार की शाम इस्लामी प्रतिरोध के कमांडरों व संघर्षकर्ताओं के एक बड़े समूह को वीडियो कान्फ़्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि प्रतिरोध, सही अर्थ में तकफ़ीरियों के साथ एक निर्णायक बल्कि धर्म व सम्मान की लड़ाई के चरण में पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि अगर हम हलब, होम्स और दमिश्क़ में तकफ़ीरियों के साथ संघर्ष न करें तो फिर हमें बअलबक, हरमल, ग़ाज़िया, सूर, सैदा, नब्तिया और इसी तरह के दूसरे लेबनानी शहरों व देहातों में उनके साथ लड़ना पड़ेगा। हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने कहा कि यदि इस लड़ाई में हमारे 50 या 75 प्रतिशत लोग भी मारे जाएं तो बाक़ी 25 या 50 प्रतिशत लोग सम्मान और प्रतिष्ठा के साथ जीवन बिताएंगे और यही सर्वोत्तम विकल्प है और अगर ईश्वर ने चाहा तो इस संख्या में हमारे लोगों के शहीद होने की नौबत ही नही आएगी।
सैयद हसन नसरुल्लाह ने इस बात पर बल देते हुए कि वर्तमान परिस्थितियों में जब प्रतिरोध के ख़िलाफ़ अत्यंत कड़े हमले हो रहे हैं, बहुत अधिक बलिदान की ज़रूरत है, कहा कि सऊदी अरब, क़तर और तुर्की के आपसी मतभेद समाप्त हो गए हैं जबकि पहले उनमें आपस में ठनी रहती थी और अब वे मिलकर हमसे लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर हम हिम्मत से काम लें और हर कोई अपने दायित्व भर साहस दिखाए तो हम न केवल उन्हें हरा सकते हैं बल्कि उनकी हड्डियां भी तोड़ सकते हैं और विजय हमारी ही होगी। हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने इस बात पर बल देते हुए कि अगले चरण में हम आम लामबंदी की घोषणा करेंगे, उन्होनें कहा कि हमने पहले भी कहा था कि सीरिया में लड़ना आवश्यक है और अब भी यही कह रहे हैं कि वहां रहना ज़रूरी है हम तकफ़ीरियों को कभी भी इस बात की अनुमति नहीं देंगे कि वो और उनके समर्थक, अपने षड्यंत्रों को लेबनान में फैलाएं। सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि हम तकफ़ीरियों से लड़ रहे हैं और खेद के साथ कहना पड़ता है कि कुछ लोग हम पर विश्वासघात का आरोप लगाते हैं, हमारे बारे में संदेह पैदा करते हैं और लोगों को हमारे ख़िलाफ उकसाते हैं। 
लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने बल देकर कहा कि आज मैं ये ऐलान करता हूँ कि जहां भी आवश्यक होगा हम खुली आंखों के साथ, किसी भी पक्ष से अनुमति लिए बिना लड़ेंगे और अब से कभी भी चुप नहीं रहेंगे क्योंकि हमारे पास ऐसे मज़बूत मोहरे हैं जिन्हें हमने अब तक तकफ़ीरियों के विरुद्ध लड़ाई में इस्तेमाल नहीं किया है। उन्होंने ये भी कहा कि हमने अलक़लमून में ईश्वर की सहायता से इतना बड़ा अभियान चलाया, कार्यक्रम तैयार किए और ईश्वर ने हमें पहाड़ियों और चोटियों पर कामयाबी बख़शी तो यदि हम इसी प्रकार अभियान जारी रखें तो अंतिम विजय के बारे में ईश्वर का वादा भी निश्चित रूप से पूरा हो कर रहेगा।
.................
तेहरान रेडियो


नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....