Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75099
Date of publication : 23/5/2015 21:47
Hit : 388

ईरान ने यमन को भेजी ढाई हज़ार टन सहायता सामग्री

यमन के लिए ईरानी जनता की ओर से मानवीय सहायता लेकर जाने वाले समुद्री जहाज़ ने जिबूती में लंगर डाल दिया।


विलायत पोर्टलः यमन के लिए ईरानी जनता की ओर से मानवीय सहायता लेकर जाने वाले समुद्री जहाज़ ने जिबूती में लंगर डाल दिया।
नजात नामक इस जहाज़ के प्रवक्ता सैयद मुजतबा अहमदी ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय रेड क्रॉस सोसाइटी से हुए समन्वय के अंतर्गत संयुक्त राष्ट्र संघ की खाद्य क्रार्यक्रम एजेंसी द्वारा निरीक्षण के लिए यह जहाज़ जिबूती की बंदरगाह पर रुक गया है और निरीक्षण के पश्चात अपने अंतिम पड़ाव की ओर रवाना हो जाएगा। उन्होंने बताया कि नजात के आगे के कार्यक्रम की पूरी जानकारी संयुक्त राष्ट्र संघ की खाद्य क्रार्यक्रम एजेंसी द्वारा निरीक्षण के बाद ही दी जाएगी।
ज्ञात रहे कि ईरान की जनता की ओर से यमन की मज़लूम जनता के लिए मानवीय सहायता लेकर नजात नामक समुद्री जहाज़ दस दिन पहले यमन के लिए रवाना हुआ जो ढाई हज़ार टन की सहायता सामग्री से लदा हुआ है। यह जहाज़ 11 मई को ईरान के बंदर अब्बास नगर से यमन की ओर रवाना हुआ था।
................
तेहरान रेडियो 


नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से