Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 75096
Date of publication : 23/5/2015 21:13
Hit : 250

बलिदान की संस्कृति ने हमें सिखाया शत्रु के सामने डटे रहना

विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि यदि बलिदान की यह पवित्र संस्कृति जिसकी जड़ कर्बला में इमाम हुसैन और उनके भाई हज़रत अब्बास के साहस में दिखाई देती है, न होती तो ईरान कभी भी शक्तिशाली और प्रभावशाली देश बनकर न उभर पाता।



विलायत पोर्टलः विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि सदैव यह आभास करता हूं कि यदि दबावों के सामने जनता का प्रतिरोध न होता तो हम भी डट नहीं सकते थे और राष्ट्र के दृष्टिकोण पेश नहीं सकते थे। 
विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने कर्बला की घटना में इमाम हुसैन के सेनापति हज़रत अब्बास अलैहिस्सलाम के शुभ जन्म दिवस के उपलक्ष्य में विदेशमंत्रालय में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि यदि बलिदान की यह पवित्र संस्कृति जिसकी जड़ कर्बला में इमाम हुसैन और उनके भाई हज़रत अब्बास के साहस में दिखाई देती है, न होती तो वह शक्ति जो ईरान को क्षेत्र में शांति और सुरक्षा की स्थापना करने वाला, शक्तिशाली और प्रभावशाली देश बना कर पेश करती है, कभी भी नहीं मिल पाती।
श्री ज़रीफ़ ने ईरान की शक्ति और क्षमता को ईरानी जनता विशेषकर शहीदों और ईश्वर के मार्ग में घायल होने वालों के प्रतिरोध और बलिदानों का योगदान बताया और कहा कि मैं वार्ता की मेज़ पर सदैव यह आभास करता था कि यदि दबावों के सामने जनता का प्रतिरोध न होता तो हम भी डट नहीं सकते थे और राष्ट्र का सही नज़रिया पेश नहीं कर सकते थे। उन्होंने कहा कि विश्व शक्तियों के सामने देश की जनता का न झुकना, बलिदान और त्याग की संस्कृति की देन है।
…………..
तेहरान रेडियो


नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई