Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 74993
Date of publication : 22/5/2015 13:4
Hit : 461

बहरैन में प्रतिबंधित हथियारों के इस्तेमाल पर विरोध प्रदर्शन।

चौदह फरवरी से नामित बहरैनी जवानों के गठबंधन ने खुलासा किया है कि ऑले खलीफा सरकार के सैनिक, बहरैनी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्रतिबंधित हथियार का उपयोग कर रहे हैं।


विलायत पोर्टलः चौदह फरवरी से नामित बहरैनी जवानों के गठबंधन ने खुलासा किया है कि ऑले खलीफा सरकार के सैनिक, बहरैनी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्रतिबंधित हथियार का उपयोग कर रहे हैं।

सूचना के अनुसार चौदह फ़रवरी नामक गठबंधन ने एक बयान जारी करके आले खलीफा सरकार के सैनिकों के हाथों बहरैनी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्रतिबंधित हथियारों के प्रयोग की निंदा की है। इस बयान में आया है कि ऑले खलीफा सरकार की बर्बरता, बहरैन के सार्वजनिक प्रदर्शनों को नहीं रोक सकी है और बहरैनी जनता जनमत संग्रह के आधार पर नए राजनीतिक प्रणाली की बदस्तूर मांग कर रही है।

बहरैनी प्रदर्शनकारियों का कहना है कि ऑले खलीफा सरकार अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन और जनता के खिलाफ अमेरिका और इस्राईल से मिलने वाले प्रतिबंधित हथियारों का इस्तेमाल कर रही है। गौरतलब है कि बहरैनी सैनिकों ने पिछले सोमवार को सित्रह में बहरैनी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बल प्रयोग किया था जिससे बहुत से प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे।

इससे पहले मानवाधिकारों के लिए काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने भी बहरैनी प्रदर्शनकारियों के पतन में बहरैनी सैनिकों के हाथों प्रतिबंधित हथियारों के इस्तेमाल की खबर दी थी।

उल्लेखनीय है कि मानवाधिकारों के लिए काम करने वाली स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने बहरैनी क्रांतिकारियों के खिलाफ ऑले खलीफा के दरबार से जुड़े सैन्य अधिकारियों के हाथों जहरीली गैस और कारतूसों के उपयोग पर आधारित कई बार रिपोर्ट पेश की हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....