Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 74900
Date of publication : 19/5/2015 23:2
Hit : 368

बश्शार असद से डॉक्टर अली अकबर विलायती की मुलाकात।

अंतरराष्ट्रीय मामलों में इस्लामी इंकेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर के सलाहकार डाक्टर अली अकबर विलायती ने दमिश्क में सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद से मुलाकात की है


विलायत पोर्टलः अंतरराष्ट्रीय मामलों में इस्लामी इंकेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर के सलाहकार डाक्टर अली अकबर विलायती ने दमिश्क में सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद से मुलाकात की है।

रिपोर्ट के अनुसार अंतरराष्ट्रीय मामलों में इस्लामी इंकेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर के सलाहकार डा. अली अकबर विलायती और सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद के बीच दमिश्क में होने वाली बैठक में दोनों देशों के मुद्दों पर चर्चा की गई। दोनों पक्षों ने इसी तरह पश्चिमी देशों की परियोजनाओं और क्षेत्र के कुछ देशों के षड़यंत्रों के मुकाबले से तेहरान और दमिश्क के सामरिक संबंधों के महत्व पर जोर दिया। डॉ विलायती ने सीरिया के खिलाफ लड़ाई को एक छोटे विश्व युद्ध बताया और कहा कि सीरिया के खिलाफ छोटे पैमाने पर यह विश्व युद्ध, साम्राज्यवाद के विरूद्ध प्रतिरोध में सीरिया की मुख्य भूमिका के कारण है जिसका उद्देश्य प्रतिरोध की धुरी को नष्ट करना है।

उन्होंने कहा कि सीरिया के राजनीतिक नेतृत्व और जनता की दृढ़ता ने प्रतिरोध की प्रक्रिया को नुकसान पहुंचाने की तमाम कोशिशों को नाकाम कर दिया जिसके परिणाम स्वरूप प्रतिरोध की प्रक्रिया और अधिक मजबूत और स्थिर हुई है। डॉ विलायती ने कहा कि ईरान के शीर्ष नेतृत्व और जनता ने सीरिया के कंधे से कंधा मिलाकर डटे रहने और दमिश्क का समर्थन करने का निश्चय कर रखा है। इस बैठक में सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद ने कहा कि प्रतिरोध की धुरी विश्व स्तर पर और अधिक स्थिर हुआ है और कोई भी इस धुरी की अनदेखी नहीं कर सकता है।

बश्शार असद ने कहा कि सऊदी अरब और तुर्की की ओर से आतंकवाद का समर्थन जारी हैं। उन्होंने ने कहा कि इन देशों की ओर से आतंकवादियों का समर्थन, ऐसी स्थिति में जारी है कि इन आतंकवादियों ने सीरियाई जनता के खिलाफ अत्यंत बर्बर अपराध किये हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....