Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 74625
Date of publication : 15/5/2015 17:48
Hit : 468

इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के राजनीतिक संघर्ष पर एक नज़र।

अइम्मा (अ.ह.) अपने ऐसे साथियों और अनुयायियों को हुकूमत में शामिल होने का आदेश देते थे जिनमें काफी हद तक राजनीतिक अंतर्दृष्टि और समझ पाई जाती थी जिसका उद्देश्य हुकूमत में रहकर अत्याचार को रोकने और भ्रष्टाचार को कम करके इस्लामी समाज की सेवा करना था।

विलायत पोर्टलः अइम्मा (अ.ह.) अपने ऐसे साथियों और अनुयायियों को हुकूमत में शामिल होने का आदेश देते थे जिनमें काफी हद तक राजनीतिक अंतर्दृष्टि और समझ पाई जाती थी जिसका उद्देश्य हुकूमत में रहकर अत्याचार को रोकने और भ्रष्टाचार को कम करके इस्लामी समाज की सेवा करना था।
हज़रत इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम ने बनी अब्बास के हारून रशीद नामक खलीफा के दौर में जीवन बिताया। हारून रशीद ऐसा इंसान था जो किसी पर भी दया नहीं करता था और जिस व्यक्ति को भी अपने राजनीतिक भविष्य के लिए खतरा समझता था, चाहे वह उसका सबसे करीबी और सबसे वफ़ादार साथी ही क्यों न हो, फ़ौरन उसकी हत्या करवा देता था। अबू मुस्लिम ख़ुरासानी का मामला इसका स्पष्ट उदाहरण है। अतः ऐसे व्यक्ति की ओर से अल्वी लोगों विशेष रूप से इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के साथ किये गये व्यवहार को स्पष्ट रूप से समझा जा सकता है।
हारून रशीद के युग में अली अलैहिस्सलाम की संतान के खिलाफ दबाव, भय और वहशत की हवा इतनी ज़्यादा थी कि इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम और आपके साथी तक़ैय्या करने पर मजबूर हो गए थे। इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) ने ऐसी गंभीर और घुटे हुए वातावरण में अपने अनुयायियों को एक संगठित राष्ट्र के रूप में एकजुट रखने की भारी जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठाई। बनी अब्बास हुकूमत आपके मुबारक वुजूद को अपने लिए बड़ा खतरा माना करती थी, क्योंकि आपके कारण अहलेबैत (अ.ह.) के शियों को एक केंद्र और धुरी मिल चुकी थी, जिसके पास वह एकजुट और संगठित रहते थे।
हारून रशीद हुकूमत के नशे में मस्त था और अपनी हुकूमत को एक राज्य के रूप में देखता था। वह अक्सर सूरज को संबोधित करके कहा करता था कि ऐ सूरज चमकता रह, तू जहां भी चमकेगा वहाँ मेरी हुकूमत का हिस्सा होगा। हारून रशीद हुकूमत विरोधी सभी आंदोलनों को कुचल देने के बावजूद इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के मुबारक वुजूद से भयभीत रहता था और उन्हें अपनी हुकूमत की राह में सबसे बड़ी बाधा और बड़ा खतरा समझता था। हारून रशीद के इस डर के दो बड़े कारण थेः 1. वह खुद को इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के महान व्यक्तित्व की तुलना में बेहद पस्त और छोटा महसूस करता था और
2. वह अच्छी तरह जानता था कि इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) खुद को इमामत के लायक और उसके योग्य समझते हैं और उनके अनुयायी भी यही विश्वास रखते हैं और इमाम अलैहिस्सलाम का अपने अनुयायियों के साथ बहुत मजबूत संपर्क स्थापित है।
हारून रशीद पहले मुद्दे के समाधान के लिए खुद को पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम का सम्बंधी प्रकट करके इस कमी दूर करने की कोशिश करता रहता है और लोगों की नजर में सम्मानजनक बनने की कोशिश करता था, ताकि इस तरह अपनी हुकूमत के आधार को मजबूत बना सके। लेकिन इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) हमेशा सच्चाई का उजागर करके उसकी परियोजनाओं को मिट्टी में मिला देते थे। मशहूर था कि हारून रशीद एक साल युद्ध के लिए जाता है और एक साल हज के लिए जाता है। 197 हिजरी की बात है जब हारून रशीद हज के लिए जा रहा था, वह अपनी इस यात्रा के दौरान एक राजनीतिक उद्देश्य प्राप्त करना चाहता था और मुसलमानों से अपने बेटे के हाथ पर बैअत लेकर उसे अपना उत्तराधिकारी निर्धारित करने का इच्छुक था। उसे अपने इस उद्देश्य को प्राप्त करने में कोई बाधा नहीं दिख रही थी, सिवाये इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के, जिन्हें वह इस काम में बड़ी बाधा समझता था।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में ईरान पर कोई प्रभाव नहीं ड़ाल पाएंगे अमेरिकी प्रतिबंध : स्ट्रैटफोर सऊदी हमलों की मार झेल रहे यमन में 2 करोड़ लोग भूख से प्रभावित,लाखों बच्चों की मौत अवैध राष्ट्र के गठन के 30 साल पहले से ज़ायोनी मूवमेंट के लिए काम कर रहे हैं आले सऊद : इस्राईली सांसद स्नूकर प्लेयर ने इस्राईली खिलाड़ी के साथ खेलने से किया इंकार हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे