Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 73975
Date of publication : 3/5/2015 0:14
Hit : 440

अलक़लमून, झड़प के बिना हिज़्बुल्लाह के महान उपलब्धियां।

सीरिया के अलक़लमून क्षेत्र में तैनात हिज़्बुल्लाह के जवानों ने तकफीरी आतंकवादियों को पीछे ढ़केल दिया है।


विलायत पोर्टलः सीरिया के अलक़लमून क्षेत्र में तैनात हिज़्बुल्लाह के जवानों ने तकफीरी आतंकवादियों को पीछे ढ़केल दिया है।

इरना की रिपोर्ट के अनुसार सीरिया अलक़लमून क्षेत्र में तैनात हिज़्बुल्लाह के जवानों ने गोलीबारी के बिना अपने निर्धारित लक्ष्यों और उद्देश्यों को प्राप्त करने में सफलता हासिल की है और सशस्त्र तकफीरी आतंकवादी रात के अंधेरे में अपने अपने ठिकानों को छोड़कर भाग गए हैं कि जिन पर उन्होंने कब्जा कर रखा था। इस रिपोर्ट के अनुसार पिछले कुछ दिनों के दौरान सीरिया के अलक़लमून क्षेत्र और सीरिया व लेबनान की सेना के आपसी सहयोग से दोनों देशों की सीमा पर स्थित पूर्वी पहाड़ों पर हिज़्बुल्लाह के दस ब्रिगेड सेना की तैनाती से ऐसे हालात पैदा हो गए कि हिज़्बुल्लाह के जवानों को किसी झड़प के बिना इस क्षेत्र में अपने लक्ष्य हासिल करने पर सफलता प्राप्त हो गई।

हिज़्बुल्लाह लेबनान के प्रमुख सैयद हसन नस्रुल्लाह ने इससे पहले एक महत्वपूर्ण भाषण में इस बात पर जोर दिया था कि पहाड़ों पर बर्फ पिघलने के बाद और वसंत शुरू होते ही सीरिया के अलक़लमून में तकफीरी आतंकवादियों के साथ जंग निश्चित है। हिज़्बुल्लाह के एक फील्ड कमांडर ने इरना संवाददाता से बातचीत करते हुए कहा कि इंशा अल्लाह इस ऑपरेशन का दूसरा चरण अगले कुछ दिनों में शुरू हो जाएगा। हिज़्बुल्लाह के जवान, कमांडरों की ओर से हमले का आदेश मिलते ही जमीन और हवा से तकफीरी आतंकवादियों के कब्ज़े वाले क्षेत्रों पर बमबारी और गोलीबारी शुरू कर देंगे। इस फील्ड कमांडर ने कहा कि इसके बावजूद कि अलक़लमून में विस्तृत भौगोलिक क्षेत्र के साथ स्थित सामरिक पहाड़ी चोटी मसूद को आजाद कराने के लिए लड़ाई सख्त होगी लेकिन जल्द ही हम इसे स्वतंत्र होता हुआ देखें देंगे।

गौरतलब है कि हिज़्बुल्लाह के जवानों ने पच्चीस मई दो हजार को दक्षिण लेबनान को मुक्त कराया था कि जिस पर ज़ायोनियों ने वर्षों से कब्जा कर रखा था। सलीमुलहिस के नेतृत्व में लेबनान की वर्तमान सरकार ने इस दिन को प्रतिरोध और स्वतंत्रता दिवस और राष्ट्रीय ईद घोषित किया है, लेबनानी जनता हर साल इस महान दिवस के अवसर पर जश्न मनाती है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....