Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 73150
Date of publication : 18/4/2015 18:5
Hit : 449

बहरैन में राजनीतिक कैदियों के साथ एकजुटता के लिए रैलियों का आयोजन।

बहरैन में आले खलीफा सरकार के खिलाफ और राजनीतिक कैदियों के साथ एकजुटता व सहानुभूति जताने के लिये देश भर में रैलियों का आयोजन किया गया है।

विलायत पोर्टलः रिपोर्ट के अनुसार बहरैन में आले खलीफा सरकार के खिलाफ और राजनीतिक कैदियों के साथ एकजुटता व सहानुभूति जताने के लिये देश भर में रैलियों का आयोजन किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार ऑले ख़लीफा सरकार के नौकरों ने प्रदर्शनकारियों पर जो शेख अली सलमान सहित अन्य राजनीतिक कैदियों की रिहाई की मांग कर रहे थे लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागे।

प्रदर्शनकारियों ने सभी राजनीतिक कैदियों की रिहाई की मांग करते हुए कहा कि ऑले खलीफा सरकार मानवाधिकारों का हनन कर रही है।

उधर एमनेस्टी इंटरनेशनल के उप निदेशक ने ऑले खलीफा सरकार को अत्याचारी और जनता का दमन करने वाली सरकार बताते हुए कहा कि ऑले खलीफा सरकार शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर अत्यधिक बल प्रयोग कर रही है जो निंदनीय और खेदजनक है।

याद रहे कि बहरैनी राजनीतिक कैदियों और शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों पर जुल्म से ऑले खलीफा सरकार का यह दावा जिसमें उन्होंने बहरैन सरकार को एक प्रगतिशील और सुधारवादी देश साबित करने की कोशिश की है, बिल्कुल निराधार और गलत साबित हुआ है।

गौरतलब है कि बहरैन में 2011 से ऑले खलीफा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी हैं और अब तक सैकड़ों शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को ऑल खलीफा सरकार ने गिरफ्तार कर लिया है और उन्हें यातनाएं दे जा रही हैं।





आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से