Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 73042
Date of publication : 15/4/2015 19:1
Hit : 471

रूस के ऐलान पर इस्राईल में मची खलबली।

रूस की ओर से ईरान को एस 300 मिसाइल सिस्टम दिए जाने के ऐलान के तुरंत बाद इस्राईली प्रधानमंत्री नितिन याहू ने रूस के इस कदम की निंदा करते हुए कहा कि रूस द्वारा ईरान को मिसाइल प्रणाली देने का मतलब परमाणु समझौते को वैधता देना है।

विलायत पोर्टलः रूस की ओर से ईरान को एस 300 मिसाइल सिस्टम दिए जाने के ऐलान के तुरंत बाद इस्राईली प्रधानमंत्री नितिन याहू ने रूस के इस कदम की निंदा करते हुए कहा कि रूस द्वारा ईरान को मिसाइल प्रणाली देने का मतलब परमाणु समझौते को वैधता देना है। इस्राईली प्रधानमंत्री ने रूस को धमकाने की कोशिश करते हुए कहा कि रूस ईरान को हथियार बेचकर आतंकवादियों का समर्थन कर रहा है! इसी दौरान एक अमेरिकी अधिकारी ने भी रूस के इस कदम का विरोध करते हुए कहा है कि रूस के इस कदम से ईरान की रक्षा प्रणाली और मजबूत हो जाएगी और ईरान का मुकाबला करना क्षेत्र के देशों के लिए असंभव हो जाएगा। गौरतलब है कि यह बात किसी से ढकी छुपी नहीं है कि दुनिया में कौन आतंकवादी है और कौन आतंकवाद का शिकार है? ईरान पर आतंकवादी होने का आरोप लगाने वाले इस्राईली नेता जरा अपने गरेबान में झांक कर देखें कि वह दुनिया में कितने नंबर के आतंकवादी हैं? यह बच्चा बच्चा जानता है कि अगर दुनिया में कहीं आतंकवाद पनपता है तो उसके पीछे इस्राईल और अमेरिका का हाथ होता है ऐसे में इस्राईल को स्वयं को शुद्ध व साफ कहना और ईरान को आतंकवादी देश ठहराना दुनिया को उल्लू बनाने के समान है। सच्चाई तो यह है कि ईरान से क्षेत्र के किसी भी देश को कोई खतरा नहीं है अगर खतरा है तो वह खुद अमेरिका की अवैध संतान इस्राईल को है। 


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....